दूसरे दौर की वोटिंग से पहले बिजनौर में दो समुदायों के बीच झड़प

bijnor-tension-650_650x400_71487004192बिजनौर चुनाव क्षेत्र के दो गांवों पेदा और नयागांव में एक हत्या के मामले को लेकर तनाव का माहौल है| 10 फरवरी की शाम नयागांव निवासी 17 साल के विशाल और उसके पिता संजय पर 10-12 लोगों ने जानलेवा हमला किया जिसमें विशाल की मौत हो गई| विशाल के फूफाजी कहते हैं कि “8 लोगों का नाम एफआईआर में है लेकिन पुलिस ने सिर्फ एक आरोपी को गिरफ्तार किया है|हमारी मांग है कि सभी 8 आरोपियों को गिरफ्तार किया जाए| हमले में और भी अनजान लोग शामिल थे|”

एफआईआर में पेदा गांव के पूर्व प्रधान सईद इकबाल का नाम शामिल है| उनके भाई मुख्तार अंसारी कहते हैं कि “उन्हें चुनाव से पहले एक राजनीतिक साजिश के तहत फंसाया गया है|” मुख्तार ने एनडीटीवी से कहा “इकबाल को जानबूझ कर इस केस में आरोपी बनाया गया है| वो बेकसूर है” उसका इस केस से कुछ लेना देना नहीं है|”

इस इलाके में पिछले साल सितंबर में एक समुदाय के 3 लोगों की हत्या के बाद भी बिजनौर के बाहरी इलाके के गांव में तनाव लंबे समय तक था| अब 15 फरवरी को यहां चुनाव हैं और इससे कुछ ही दिन पहले हुए इस हत्याकांड को लेकर सियासत फिर तेज हो रही है| ये कोशिश हो रही है कि निजी रंजिश को सांप्रदायिक तनाव में बदल कर उसका राजनीतिक फायदा उठाया जाए|

पिछले साल सितंबर में पेदा गांव निवासी पूसा देवी के पति ओमपाल सिंह को पुलिस ने एक समुदाय के तीन लोगों की हत्या के मामले में गिरफ्तार कर लिया था| दरअसल पेदा गांव के 29 लोग पिछले साल के हत्याकांड के आरोप में जेल में बंद हैं| पूसा देवी एनडीटीवी से कहा  “मेरे पति निर्दोष हैं, उन्हें फंसाया गया है|” ऐसे में 10 तारीख की ये घटना तूल पकड़ सकती है और इस इलाके के चुनावी माहौल को प्रभावित कर सकती हाई |

लेखन / प्रस्तुति :

हिंद वॉच मीडिया
हिंद वॉच मीडिया
हिंद वॉच मीडिया जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रही है| समूह अपने साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाती है| भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है|
यह भी पढ़ें :   डीयू के रामजस कॉलेज में एबीवीपी-आइसा के कार्यकर्ताओं में झड़प
ताजा खबरें :
दोस्तों को बताएं :

यह भी पढ़े