DU और AMU की वेबसाइट पर लिखा- कश्मीर बनेगा पाकिस्तान

Presentation122888देश के चार प्रमुख शिक्षण संस्थानों- दिल्ली विश्वविद्यालय, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, आईआईटी दिल्ली और आईआईटी बीएचयू की आधिकारिक वेबसाइटों को 25 अप्रैल को हैक कर लिया गया और उन पर ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लिख दिये गये। हैकर समूह ने अपना नाम ‘पीएचसी’ बताया है और कहा, ‘‘कुछ भी हटाया या चुराया नहीं गया। केवल भारतीयों तक अपना संदेश पहुंचाने के लिए यहां हैं।’’

चारों वेबसाइटों पर लिखे संदेश में कहा गया है, ‘‘भारत सरकार और भारत की जनता का अभिवादन। क्या आपको पता है कि आपके तथाकथित नायक :सैनिक: कश्मीर में क्या कर रहे हैं? क्या आप जानते हैं कि वे कश्मीर में कई बेगुनाह लोगों को मार रहे हैं।’’

इसमें लिखा है, ‘‘क्या आपको पता है कि उन्होंने कई लड़कियों के साथ बलात्कार किया है? क्या आप जानते हैं कि वे आज भी कश्मीर में लड़कियों के साथ दुष्कर्म कर रहे हैं? अगर आपके भाई, बहन, पिता और माता को मार दिया जाए तो आप कैसा महसूस करेंगे? अगर कोई आपकी मां या बहन के साथ दुष्कर्म करेगा तो आपको कैसा लगेगा? क्या आपकी जिंदगी और आपका परिवार तबाह नहीं हो जाएगा?’’




इसमें दो वीडियो हैं जिनके साथ ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के कैप्शन लिखे हैं। वीडियो में कथित तौर पर सेना को कश्मीर में ज्यादती करते और इस पर लोगों को प्रदर्शन करते दिखाया गया है। दिल्ली विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने कहा कि वे इस मामले को देख रहे हैं और वेबसाइट को जल्द ठीक किया जाएगा।

एएमयू के प्रवक्ता ने कहा कि “मामला संज्ञान में लाया गया है और आईटी विभाग इसे देख रहा है। दोनों आईआईटी के अधिकारियों से बात नहीं हो सकी।”




पूरा संदेश काली स्क्रीन पर लिखा गया है। यह ग्रुप 2016 में ऐसे काम को अंजाम दे चुका है। तब सात हजार भारतीय वेबसाइट हैक करने का दावा किया गया था। उस वक्त अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने राष्ट्रीय मीडिया संयोजक साकेत बहुगुणा ने इसकी तरफ ध्यान आकर्षित किया था।

लेखन / प्रस्तुति :

हिंद वॉच मीडिया
हिंद वॉच मीडिया
हिंद वॉच मीडिया जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रही है| समूह अपने साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाती है| भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है|
दोस्तों को बताएं :
यह भी पढ़ें :   भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश अल्तमस कबीर का निधन
loading...

यह भी पढ़े