संसद में लोकतंत्र की मॉब लिंचिंग

mayawati

मायावती की आवाज हमारे समाज के सबसे “शोषित तबके की आवाज है और इस आवाज को संसद के बाहर प्रशासन द्वारा और संसद के भीतर भगवा ब्रिगेड की भीड़ द्वारा दबा दिये जाना एक मायने में वंचितों समाज के सवालों की भीड़ हत्या (मॉब लिंचिग) के समान है : महेश राठी    सहारनपुर काण्ड़ और उ.प्र. में दलितों पर भगवा ब्रिगेड के बढ़ते हमलों पर मायावती की आवाज को हुडदंगी तरीके से दबा दिये जाना और उसके विरोध में बसपा प्रमुख सुश्री मायावती का इस्तीफा देना भारतीय लोकतंत्र के इतिहास का काला…

दोस्तों को बताएं :
Read More

मोदीराज में भारत के शिक्षण संस्थानों का तेजी से हुआ भगवाकरण

Anti Student Narendra Modi

मोदीराज में बहुत आक्रामक रूप से भारत के शिक्षण संस्थानों का संघीकरण किया जा रहा है| बेतहाशा फीस वृद्धि, शिक्षा बजट में लगातार कटौती,  शिक्षण संस्थानों पर संघी एजेंडे को लागू करने के लिए किए जा रहे लगातार हमले, छात्र विरोधी सरकारी नीतियाँ, पाठ्यक्रम में आक्रामकता के साथ बदलाव, तेजी से शिक्षण संस्थानों को दक्षिणपंथी ताकतों के कब्जे में दिया जाना, यह सब केंद्र सरकार ने इतनी रफ़्तार में किया कि इसका भगवा एजेंडा कोई पर्दे की बात नहीं रह गयी| केंद्र सरकार द्वारा सांप्रदायिक राष्ट्रवाद, कॉर्पोरेट गठजोड और अन्तराष्ट्रीय पूंजी के प्रत्यक्ष दबाव…

दोस्तों को बताएं :
Read More