फर्जी पासपोर्ट मामला: अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को 7 साल की सजा

28086-hxewartptp-1493039583विशेष अदालत ने गैंगस्टर छोटा राजन और अन्य को फर्जी पासपोर्ट मामले में सात साल की सजा सुनाई है। इससे पूर्व छोटा राजन और तीन अन्य अवकाश प्राप्त नौकरशाहों को एक विशेष अदालत ने फर्जी भारतीय पासपोर्ट बनवा कर सरकार को ठगने के मामले में 24 अप्रैल को दोषी करार दिया गया था।

विशेष न्यायाधीश विरेन्द्र कुमार गोयल ने तीन अवकाश प्राप्त नौकरशाहों- जयश्री दत्तात्रेय रहाते, दीपक नटवरलाल शाह और ललिता लक्ष्मणन को ‘आपराधिक षड्यंत्र करके’ फर्जी पासपोर्ट प्राप्त करने में राजन की मदद करने का दोषी करार दिया था।

फैसला सुनाने के तुरंत बाद अदालत ने तीनों नौकरशाहों को तुरंत हिरासत में लेने को कहा। इस दौरान अदालत कक्ष में मौजूद तीनों नौकरशाह रो पड़े। तीनों फिलहाल जमानत पर बाहर हैं। फिलहाल न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल में बंद 55 वर्षीय राजन उर्फ राजेंद्र सदाशिव निकालजे सुरक्षा कारणों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए अदालत में पेश हुआ था।

चारों को भारतीय दंड संहिता के तहत धोखाधड़ी, फर्जी दस्तावेज का प्रयोग असली के रूप में करने, ठगी के लिए फर्जीवाड़ा करने, महत्वपूर्ण सुरक्षा दस्तावेज या वसीयत की फर्जी नकल करने, वेश बदलकर ठगी करने और आपराधिक षड्यंत्र रचने तथा पासपोर्ट कानून के अन्य प्रावधानों के उल्लंघन का दोषी करार दिया गया है।




सीबीआई के मुताबिक, चारों आरोपियों को धोखाधड़ी, षडयंत्र रचने और प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट के तहत चार्जशीट में नामित किया गया था। सितंबर 2003 मे मोहन कुमार के नाम पर बने फर्जी पासपोर्ट और टूरिस्ट वीजा पर छोटा राजन भारत से ऑस्ट्रेलिया भाग गया था। इसके बाद वह करीब 12 साल तक वहीं रहा था।




बता दें कि राजन को 25 अक्टूबर 2015 में बाली शहर में इंडोनेशिया की पुलिस ने गिरफ्तार किया था। जिसके बाद इंटरपोल से जारी रेड कॉर्नर नोटिस के आधार पर राजन को 6 नवंबर 2015 को भारत लाया गया। राजन इस वक्त दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद है। इस केस में दोषी बाकी तीनों अधिकारी जमानत पर थे।

लेखन / प्रस्तुति :

हिंद वॉच मीडिया
हिंद वॉच मीडिया
हिंद वॉच मीडिया जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रही है| समूह अपने साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाती है| भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है|
दोस्तों को बताएं :
यह भी पढ़ें :   तीसरे दौर के मतदान के लिए थम गया प्रचार, सपा की प्रतिष्ठा दांव पर

यह भी पढ़े

Leave a Comment