गोवा विधानसभा में मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को आज साबित करना है बहुमत

manohar-parrikar-pti_650x400_51489523259गोवा में मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार 16 मार्च को सदन में अपनी सरकार का बहुमत साबित करना है| सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस पार्टी की याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा था कि “16 मार्च को पर्रिकर सदन में अपना बहुमत साबित करें|”

इससे पहले कांग्रेस पार्टी ने राज्यपाल के फैसले का विरोध किया था और कहा था कि “राज्य में हुए चुनावों में सबसे बड़े दल के रूप में कांग्रेस को लोगों ने चुना है इसलिए कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया जाना चाहिए था|” लेकिन बीजेपी ने मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व में कुछ निर्दलीय और दलों के समर्थन का पत्र लेकर राज्यपाल से मुलाकात की और सरकार बनाने का दावा पेश किया| राज्यपाल ने उन्हें 15 दिनों में बहुमत साबित करने को कहा था| इसके बाद कांग्रेस पार्टी सुप्रीम कोर्ट पहुंची और पर्रिकर के मुख्यमंत्री पद के शपथग्रहण पर रोक की मांग की| लेकिन कोर्ट ने पर्रिकर को 16 मार्च को बहुमत साबित करने का आदेश दिया|

ताजा खबर
prev next

जानकारी के लिए बता दें कि 14 मार्च को एक और निर्दलीय विधायक ने बीजेपी नीत गठबंधन सरकार को समर्थन का ऐलान किया है| इसके साथ ही सत्तापक्ष के कुल विधायकों की संख्या 22 हो गई| उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद पर्रिकर ने संवाददाताओं से कहा “पिछले दो दिनों से इसे लेकर अटकल थी कि क्या बीजेपी के पास बहुमत का आंकड़ा है और आज हमारे पास 22 विधायक हैं|” 

एक सवाल के जवाब में पर्रिकर ने कहा कि “एक और निर्दलीय विधायक ने सरकार का समर्थन किया है और अब उनके पास 40 सदस्यीय विधानसभा में 22 विधायक हो गए हैं| निर्दलीय विधायक रोहन खौंटे और गोविंद गावडे पहले ही बीजेपी नीत सरकार का समर्थन कर चुके हैं|”




इससे पहले पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने 14 मार्च की शाम चौथी बार गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली थी| हालांकि शपथग्रहण के दौरान उन्होंने बड़ी गलती की और भूलवश मंत्री पद की शपथ ली| केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने इस गलती की ओर ध्यान दिलाया| तब जाकर उन्होंने दोबारा शपथ ली थी|

मुख्यमंत्री पर्रिकर के अलावा बीजेपी के कोटे से दो मंत्री बने हैं| जबकि सहयोगी दलों जीएफपी को तीन, एमजीपी को दो और निर्दलीय विधायकों को दो मंत्री पद दिए गए हैं| शपथ ग्रहण के दौरान राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री लम्क्षीकांत पारसेकर भी मौजूद रहे|




महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी की ओर से रामकृष्ण (सुदिन) ढवलीकर और मनोहर (बाबू) आजगांवकर को मंत्री पद दिया गया है| वहीं, गोवा फॉरवर्ड पार्टी के तीनों विधायकों को मंत्री पद से नवाजा गया है| पार्टी के संरक्षक विजय सरदेसाई सहित विनोद पालियेंकर और जयेश सालगांवकर ने मंत्री पद की शपथ ली| इसके अलावा बीजेपी विधायक फ्रांसिस डिसूजा और पांडुरंग मडकईकर को भी मंत्री पद मिल गया|अन्य दलों की बात करें तो रोहन खौंटे और गोविन्द गावडे को मंत्री बनाया गया|वहीं, मोविन गुदीन्हो का पत्ता कट गया था|

लेखन / प्रस्तुति :

हिंद वॉच मीडिया
हिंद वॉच मीडिया
हिंद वॉच मीडिया जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रही है| समूह अपने साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाती है| भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है|
दोस्तों को बताएं :

यह भी पढ़े