अजय माकन ने ली एमसीडी चुनाव में कांग्रेस की हार की जिम्मेदारी, प्रदेश अध्यक्ष पद छोड़ा

313182-ajay-makenमसीडी चुनाव नतीजों के मद्देनजर दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष अजय माकन ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने एक साल तक कोई पद नहीं लेने का फैसला किया है। उन्होंने कहा “हार की नैतिक जिम्मेदारी लेता हूं। एक साल तक कोई पद नहीं लूंगा। सालभर कार्यकर्ता की तरह रहूंगा।” अजय माकन ने कहा कि “कांग्रेस ने वापसी की है लेकिन उन्हें और बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद थी।”

उन्होंने कहा कि “इलेक्शन कमिशन को ईवीएम पर जांच करनी चाहिए। अगर हम ईवीएम पर भरोसा नहीं कर सकते तो चुनाव आयोग पर भरोसा करना होगा।” इसके अलावा आम आदमी पार्टी की विधायक अलका लांबा ने भी इस्तीफे की पेशकश की है|

शीला ने कांग्रेस की हार के लिए माकन को जिम्मेदार ठहराया
इससे पहले दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस पार्टी की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित ने हार के लिए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन को जिम्मेदार ठहराया| उन्होंने कहा “क्योंकि दिल्ली में कांग्रेस का नेतृत्व उन्हीं के हाथों में था इसलिए हार के लिए भी वही जिम्मेदार हैं|”

कांग्रेस की अंदरूनी कलह पर शीला दीक्षित का कहना है कि “पार्टी में नाराज लोगों को मनाया जाता है और जिसके हाथ में कमान है उसे ही ये काम करना पड़ता है, लेकिन हमारे यहां इसके ठीक उल्टा हुआ है|”




कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और दिल्‍ली में लगातार तीन बार मुख्यमंत्री रहने वाली शीला दीक्षित ने एमसीडी चुनावों में कांग्रेस की करारी हार के बाद पार्टी को सलाह देते हुए कहा है ”यह जनता का जनादेश है, इसे सम्मान के साथ स्वीकार किया जाना चाहिए|” कांग्रेस एमसीडी चुनावों में तीसरे पायदान पर रही| बीजेपी ने दो तिहाई बहुमत के साथ जीत हासिल की है| अरविंद केजरीवाल की आप दूसरे स्थान पर रही|




शीला दीक्षित से जब कांग्रेस की हार के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि “कांग्रेस ने दरअसल आक्रामक प्रचार नहीं किया| इस वजह से कांग्रेस पिछड़ गई| कांग्रेस के किसी भी कद्दावर या बड़े नेता ने 270 वार्डों में प्रचार नहीं किया|” जब उनसे पूछा गया कि आपने प्रचार क्यों नहीं किया तो शीला दीक्षित ने कहा, ”मैंने इसलिए प्रचार नहीं किया क्‍योंकि पार्टी ने इसके लिए मुझे आमंत्रित नहीं किया| मैं अपने आप से तो ऐसा नहीं कर सकती थी|’

उल्लेखनीय है कि एमसीडी चुनावों से पहले कांग्रेस को काफी नुकसान पड़ा| पार्टी के वरिष्ठ नेताओं अरविंदर लवली और बरखा शुक्ला सिंह ने ऐन चुनाव से पहले कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया| वरिष्ठ नेता एके वालिया की नाराजगी का भी पार्टी को सामना करना पड़ा|

लेखन / प्रस्तुति :

हिंद वॉच मीडिया
हिंद वॉच मीडिया
हिंद वॉच मीडिया जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रही है| समूह अपने साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाती है| भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है|
दोस्तों को बताएं :
यह भी पढ़ें :   पुणे की बेकरी शॉप में आग लगने से 6 मज़दूरों की मौत

यह भी पढ़े

Leave a Comment