आगरा एक्सप्रेस वे पर योगी की टेढ़ी नजर, होगी जांच

expressway-dec5-1_647_112416084559अखिलेश सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट गोमती रिवर फ्रंट के बाद योगी सरकार की नजरें पिछली सरकार के एक और बड़े प्रोजेक्ट पर टेढ़ी हो गई हैं। यूपी सरकार ने आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे की जांच के आदेश ‌दिए हैं। इसके लिए सर्वे जांच एजेंसी से भी संपर्क किया गया है।

जानकारी के मुताबिक ये बात सामने आई कि इस प्रोजेक्ट के लिए ज्यादा मुआवजा पाने के लालच में खेती की जमीन को रिहायशी जमीन की श्रेणी में दिखाया गया है।

इस मामले में प्रदेश सरकार ने 10 जिलों के डीएम को पत्र भेजा है और पिछले 18 महीने में हुई जमीन खरीद की रिपोर्ट मांगी है। बता दें क‌ि एक्सप्रेस वे को व‌िधानसभा चुनाव में बड़ा मुद्दा बनाया गया था। बता दें क‌ि एक्सप्रेस-वे के लिए 232 गांवों के 30 हजार से ज्यादा किसानों से लगभग 3,500 हेक्टेयर भूमि आपसी सहमति से खरीदी गई थी।

व‌िपक्ष‌ियों ने जहां अधूरा एक्सप्रेस वे बनाकर उसका उद्धाटन करने को लेकर अख‌िलेश पर न‌िशाना साधा था वहीं अख‌िलेश ने पलटवार करते हुए ये तक कहा था क‌ि प्रधानमंत्री अगर इस एक्सप्रेस वे पर चलेंगे तो वे खुद सपा को वोट दे देंगे।

प्रदेश के 10 जिलों से गुजरने वाला एक्सप्रेस-वे 302 किमी लंबा है। इसका निर्माण महज 23 माह में पूरा कराया गया है। एक्सप्रेस-वे 13 हजार करोड़ की लागत से बना है। सड़क की कुल लंबाई 370 किलोमीटर और चौड़ाई 110 मीटर है। एक्सप्रेस-वे उन्नाव, कानपुर, हरदोई, औरैया, मैनपुरी, कन्नौज, इटावा और फिरोजाबाद से आगरा को जोड़ेगा। यहीं नहीं, एक्सप्रेस-वे के रास्ते में गंगा समेत पांच नदियां भी पड़ेंगी।

यह भी पढ़ें :   1 जुलाई से पैन कार्ड हो जाएगा रिजेक्ट, जानिए क्यों?

इन्हें पार करने के लिए एक्सप्रेस वे पर 13 बड़े और 52 छोटे पुल व चार आरओबी बने हैं। सड़क पर आवाजाही में कोई रुकावट न हो इसका विशेष ध्यान रखते हुए 132 फुट ओवरब्रिज और गांव व कस्बों की सुविधा के लिए 59 अंडरपास दिए गए हैं।

वहीं तीन किमी लंबी हवाई पटटी के पास (खंभौली-कबीरपुर के बीच) एक्सप्रेस-वे की सड़क को आने वाले समय में 12 लेन किया जाएगा। सबसे बड़ी खासियत है कि आपात स्थिति मे हवाई पटटी पर जहाजों की लैंडिंग और टेकऑफ भी की जा सकेगी। इस दौरान दोनों ओर से ट्रैफिक भी चलता रहेगा।

लेखन / प्रस्तुति :

हिंद वॉच मीडिया
हिंद वॉच मीडिया
हिंद वॉच मीडिया जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रही है| समूह अपने साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाती है| भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है|
दोस्तों को बताएं :

यह भी पढ़े

Leave a Comment