Print Friendly, PDF & Email

parliament-of-india3011संसद का पूरा शीतकालीन सत्र नोटबंदी के हंगामे की भेंट चढ़ गया। इतना हंगामा पिछले 15 सालों में नहीं हुआ। इस हिसाब से संसद का यह सत्र पिछले 15 सालों में सबसे कम काम करने वाला सत्र रहा। सत्र के दौरान लोकसभा में काम का प्रतिशत 15.75 रहा तो राज्यसभा में यह 20.61 प्रतिशत था। वहीं प्रश्न काल में लोकसभा में 11 प्रतिशत सवालों के जवाब दिए गए तो राज्यसभा में 0.6 प्रतिशत सवालों का जवाब दिया गया। सत्र के दौरान लोकसभा में आयकर संशोधन बिल बिना किसी बहस के पास हो गया लेकिन राज्यसभा में इसे पेश ही नहीं किया गया। दोनों सदनों में सिर्फ विक्लांग व्यक्तियों के अधिकारों वाला विधेयक ही पास हो सका। दोनों सदनों में इतना कम काम होने पर लोकसभा की स्पीकर सुमित्रा महाजन और राज्यसभा के चेयरमैन हामिद अंसारी ने दुख प्रकट किया।

शीतकालीन सत्र 16 नवंबर से शुरू हुआ था। घंटों का हिसाब लगाया जाए तो लोकसभा ने हंगामे की वजह से 92 घंटे खोए और सिर्फ 19 घंटे काम किया। वहीं राज्यसभा ने 86 घंटे खोए और 22 घंटे काम किया। दूसरे शब्दों में लोकसभा ने एक घंटे काम के बदले पांच घंटे गंवाए गए वहीं राज्यसभा में एक घंटे के बदले चार घंटे का समय बर्बाद हुआ।

दोनों सदनों में हंगामे की वजह नोटबंदी रही। इसके अलावा विपक्ष पीएम नरेंद्र मोदी के संसद में ना रहने को भी मुद्दा बना रहा था। इसके अलावा मोदी को नोट बंदी पर देश से माफी मांगने के लिए भी कहा गया। दरअसल, पीएम ने एक कार्यक्रम में भाषण दिया था जिसमें उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा था कि वे लोग इसलिए परेशान हैं क्योंकि उन्हें नोटबंदी से पहले वक्त नहीं दिया। इसके अलावा राहुल गांधी समेत बाकी नेता भी कहते रहे कि पीएम रैलियों में तो बोलते हैं लेकिन संसद में नहीं। इसकी सफाई में पीएम ने एक रैली में ही दी। गुजरात में रैली के दौरान पीएम ने कहा कि उन्हें संसद में बोलने नहीं दिया जाता इसलिए वह जनसभा में बोलते हैं।