हिंद वॉच को ऑपरेशन 136 की जानकारी देते कोबरापोस्ट डॉट कॉम के संपादक अनिरुद्ध बहल
Print Friendly, PDF & Email


कोबरा पोस्ट के ताज़े स्टिंग ऑपरेशन में देश के अनेक नामी-गिरामी मीडिया घरानों के जिम्मेवार लोग पैसा लेकर ख़बर चलाने के लिए सौदा करते बेनकाब हुए हैं। दिल्ली के प्रेस क्लब में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में कोबरा पोस्ट ने बताया कि कई मीडिया समूह पैसा लेकर ‘हिन्दुत्व’ के एजेंडे से सम्बंधित खबरें चलाने के लिए तैयार हैं।

जिन मीडिया घरानों की बातचीत को लेकर कोबरा पोस्ट ने ऐसा दावा दावा किया है उनमें इंडिया टीवी, दैनिक जागरण, हिंदी खबर, सब ग्रुप, डीएनए (डेली न्यूज़ एंड एनालिसिस), अमर उजाला, यूएनआई, 9एक्स टशन, समाचार प्लस, एचएनएन 24×7, पंजाब केसरी, स्वतंत्र भारत, स्कूप-व्हूप (ScoopWhoop), रेडिफ डॉट कॉम, आज हिंदी डेली, साधना प्राइम न्यूज़ शामिल हैं।

कोबरा पोस्ट के अनुसार, “एक वरिष्ठ पत्रकार की तहकीकत के दौरान इन तमाम मुद्दों पर मीडिया प्रतिष्ठान जिसमे प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक और डिजिटल जैसे प्लैट्फॉर्म के ऊंचे पदों पर बैठे लोग न सिर्फ तैयार थे बल्कि मोटी रकम के बदले इस सुनियोजित योजना को, जोकि एक खुल्लमखुल्ला साम्प्रदायिक मीडिया कैम्पेन था, चलाने और सफल बनाने के लिए सैकड़ों रास्ते भी बताए।”

कोबरा पोस्ट ने इस स्टिंग ऑपरेशन का नाम “ऑपरेशन 136” इसलिए रखा गया क्योंकि कुछ महीनों पहले आई वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स में भारत का स्थान 136वां है। कोबरा पोस्ट के अनुसार, “इस तहकीकत के बाद ये साफ हो गया है कि कैसे देश भर के मीडिया प्रतिष्ठान के ऊंचे पदों पर बैठे लोग पेड़ न्यूज़ को बढ़ावा देकर लोकतंत्र को खतरे में डाल रहे है।”

भारत में पेड न्यूज़ (पैसे के बदले ख़बर), फेक न्यूज़ (भ्रामक या मनगढ़ंत ख़बर) और हेट न्यूज़ (नफरत फैलाने वाली ख़बर) से जुड़ी बातों पर चर्चा कुछ समय से होने लगी है लेकिन कोबरा पोस्ट का यह “ऑपरेशन 136” अब तक का सबसे सटीक और सनसनीखेज खुलासा है।

प्रेस वार्ता में एक वीडियो दिखाकर कोबरापोस्ट डॉट कॉम के संपादक अनिरुद्ध बहल ने बताया कि इस स्टिंग ऑपरेशन में अंडर कवर एक वरिष्ठ पत्रकार ने श्रीमद् भागवत गीता प्रचार समिति के प्रचारक बनकर अनेक प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक और डिजिटल जैसे प्लेटफार्म के मीडिया प्रतिष्ठानों के ऊंचे पदों पर बैठे लोगों से पहले चरण में हिन्दुत्व के लिए अनुकूल माहौल बनाने के लिए विशिष्ट रूप से निर्मित धार्मिक प्रोग्राम चलाने के लिए बात किया। उसके बाद के काम में मुहिम को और धारदार बनाने के लिए सांप्रदायिक रंग देना, जिसमें विनय कटियार, उमा भारती और मोहन भागवत जैसे हिंदुत्व विचारधारा से जुड़े लोगों के भाषणों का प्रचार करना शामिल है। इलेक्शन के नजदीक आने पर कैम्पेन के तहत राहुल गांधी, मायावती और अखिलेश यादव जैसे विपक्षी नेताओं पर पप्पू, बुआ और बबुआ जैसे अशोभनीय शब्दों का इस्तेमाल कर व्यंगात्मक प्रोग्राम चलाना भी शामिल है।

मीडिया प्रतिष्ठानों को ये कैम्पेन अपने तमाम प्लेटफार्म जैसे प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक, रेडियो और डिजिटल जिसमें ई न्यूज़ पोर्टल, ई-पेपर, वेबसाइट, फ़ेसबूक, ट्विटर जैसे सोशल मीडिया पर चलाना जैसे बातों पर मीडिया घरानों के जिम्मेवार लोगों से बात की गयी। आश्चर्य की बात यह सामने आई कि  नामी-गिरामी मीडिया घरानों के जिम्मेवार लोग इस स्टिंग ऑपरेशन में पैसा लेकर ख़बर चलाने के लिए सौदा करते बेनकाब हुए।

कोबरा पोस्ट ने दावा किया है कि कुछ मीडिया संस्थानों के लोगों ने खुले तौर पर स्वीकार किया कि वो सरकार के पक्ष में काम करते है।

वहीं कई संस्थान राहुल गांधी जैसे नेताओं के चरित्र हनन के लिए कंटैंट बनाने और प्रचार करने को तैयार हो गए। साथ ही इन मीडिया संस्थानों में कुछ कैबिनेट मंत्री अरुण जेटली, मनोज सिन्हा, जयंत सिन्हा, मेनका गांधी और उनके बेटे वरुण गांधी के खिलाफ स्टोरी चलाने के लिए भी राजी हो गए।

ऑपरेशन 136 के पहले भाग में कोबरा पोस्ट के अंडर कवर पत्रकार पुष्प शर्मा से पैसे लेकर हिंदुत्व के एजेंडे से जुड़ी ख़बरें दिखने के लिए अलग-अलग मीडिया समूह के जिम्मेवार व्यक्तियों ने क्या कहा?  〉〉〉

 कोबरा पोस्ट डॉट कॉम के अनुसार स्टिंग ऑपरेशन के जारी हुए पहले भाग में निम्नलिखित मीडिया घरानों के जिम्मेवार व्यक्तियों ने कोबरा पोस्ट के अंडर कवर पत्रकार से मोटी रकम लेकर हिंदुत्व के एजेंडे के तहत ख़बर चलाने की सहमति दी :

  1. इंडिया टीवी
  2. दैनिक जागरण
  3. हिंदी खबर
  4. सब ग्रुप
  5. डीएनए (डेली न्यूज़ एंड एनालिसिस)
  6. अमर उजाला,
  7. यूएनआई,
  8. 9X (नाइन एक्स) टशन,
  9. समाचार प्लस,
  10. एचएनएन 24X7,
  11. पंजाब केसरी,
  12. स्वतंत्र भारत,
  13. स्कूप-व्हूप (ScoopWhoop),
  14. रेडिफ डॉट कॉम,
  15. इंडिया वॉच,
  16. आज हिंदी डेली,
  17. साधना प्राइम न्यूज़

 

कोबरा पोस्ट द्वारा आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण भी मौजूद थे| प्रेस वार्ता के बाद उन्होंने निम्नलिखित ट्वीट किया :

कोबरा पोस्ट ने निम्नलिखित ट्वीट के माध्यम से इस स्टिंग ऑपरेशन की पुष्टि की :

ऑपरेशन 136 के पहले भाग में कोबरा पोस्ट के अंडर कवर पत्रकार पुष्प शर्मा से पैसे लेकर हिंदुत्व के एजेंडे से जुड़ी ख़बरें दिखने के लिए अलग-अलग मीडिया समूह के जिम्मेवार व्यक्तियों ने क्या कहा?  〉〉〉