Print Friendly, PDF & Email

अहमदाबाद, गुजरात
शेरों के लिए मशहूर गिर अभयारण्य में शेरों के मारने का सिलसिला लगातार बढ़ता जा रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि शेरों की मौत के पीछे एक खतरनाक वायरस है। सितंबर में 21 शेरों की मौत हो गई है। इतनी बड़ी संख्या में शेरों की मौत से वन विभाग में हड़कंप मचा हुआ है।

सोमवार को वन विभाग ने जसाधर ऐनमल केयर सेंटर में 11 और शेरों की मौत की पुष्टि की है। इसके साथ ही अबतक कुल 21 शेरों की मौत हो गई है। गिर में 12 सितंबर से शेरों की मौत का सिलसिला शुरू हुआ था और अबतक मौतों का आंकड़ा बढ़कर 21 पहुंच तक चुका है। इससे पहले 12 से 19 सितंबर के दौरान डालखानिया रेंज में शावकों समेत 11 शेरों की मौत हुई थी।

कहा जा रहा है कि शेरों की मौत के पीछे एक खतरनाक वायरस है। इस वायरस के कारण तंजानिया में 1994 में 1000 शेरों की मौत हो गई थी। गिर में शेरों की मौत को लेकर एक डरावना खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है कि 12 से 16 सितंबर के दौरान मरनेवाले 4 शेर कैनाइन डिस्टेंपर वायरस (सीडीवी) का शिकार थे। यह जानलेवा वायरस कुत्तों से जंगली जानवरों में फैलता है। यह वही वायरस है जिसने तंजानिया के सेरेंगेटी रिजर्व में 1994 के दौरान 1000 शेरों की जान लेकर पूरी दुनिया को हिला दिया था।

31 शेर जामवाला रेस्क्यू सेंटर में शिफ्ट
वन विभाग ने सोमवार को बताया कि कुल 21 शेरों में से 6 की मौत प्रोटोजोआ इंफेक्शन और 4 की किसी वायरस के संक्रमण से हुई है। प्रोटोजोआ इंफेक्शन कुत्तों के शरीर पर पाए जाने वाले कीड़ों से जंगली जानवरों में फैलता है। इसके अलावा यह मवेशियों और घास में भी पाया जाता है। एहतियात के तौर पर वन विभाग ने सेमरडी इलाके के पास सरसिया से 31 शेरों को हटाकर जामवाला रेस्क्यू सेंटर में शिफ्ट किया है।