Print Friendly, PDF & Email

अक्षय कुमार बौलीवुड के सबसे बिजी स्टार माने जाते हैं. वह साल में 3 से 4 फिल्में रिलीज करके न सिर्फ सबसे ज्यादा कमाने वाले सितारे हैं बल्कि निर्माताओं की पहली पसंद भी इसलिए हैं क्योंकि उनके अभिनय में बनीं ज्यादातर फिल्में न सिर्फ समय पर रिलीज होती हैं बल्कि कुछ न कुछ कमाकर ही जाती हैं. खिलाड़ी कुमार पिछले कई सालों से शायद इसीलिए नए निर्माताओं और निर्देशकों के साथ खूब काम करते दिख रहे हैं. लेकिन खिलाड़ी कुमार के बारे एक बात जो कम लोग जानते हैं वो यह कि उनकी भी कई फिल्में आज भी रिलीज की राह देख रही हैं.

कुंतीपुत्र, पूरब की लैला- पश्चिम का छैला
दो फिल्में  जो अक्षय कुमार ने 90 के दशक में के एथी, आज तक बनकर डब्बे में बंद हैं. इनके नाम हैं कुंतीपुत्र, पूरब की लैला- पश्चिम का छैला. अगर फ़िल्मी लाइब्रेरी या इंटरनेट में खोजेंगे तो इनके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं बल्कि सिवाए इन फिल्मों के नाम और कुछ स्टारकास्ट के. पूरब की लैला- पश्चिम का छैला फिल्म में अजहं अक्षय कुमार के साथ उनके नब्बे दे दशक के पौपुलर जोड़ीदार सुनील शेट्टी थे वहीँ हीरोइन का रोल कर रही थीं, नम्र्रा शिरोडकर. शिल्पा शिरोडकर की बहन नम्रता उन्ही दिनों अक्षय कुमार की फिल्म हेरा फेरी में आइटम सांग भी कर रही थीं. लेकिन जब अक्षय कुमार ने इस फिल्म को पूरा करने के लिए निर्माता को तैयार किता तो नम्रता ने हाथ पीछे खींच लिए. वो इसलिए क्योंकि  तब उनकी शादी तेलुगु फिल्मों के सुपरस्टार महेश बाबु स एहो गयी थी और उन्होंने फिल्मों से संन्यास ले लिए था.

ऐसे ही कुंती पुत्र भी उसी दौर में बनी अक्षय कुमार की फिल्म थी जिसमें उनके साथ  सोनाली बेंद्रे और फरीदा जलाल थी. फिल्म का निर्देशन गुड्डू धनोवा कर रहे थे जो उनके साथ इस से पहले एलान जैसी सुपरहिट फिल्म कर चुके थे पर यह फिल्म 1995 में बनी इस फिल्म के निर्माण से उनके मैनेजर जुड़े थे जो अब इस दुनिया में नहीं है. कुछ लोग कहते हैं कि अक्षय की फिल्म इक्के पे इक्का रिलीज हुई जो इसी तर्ज पर थी.

वाटर, मुलाकात, सिपाही और डेविड- गोविंदा की फिल्म
कम लोगों को पता है कि अक्षय कुमार दीपा मेहता की फिल्म वाटर कर आरहे थे. ये तब की बात है जब जून अब्राहम इस फिल्म का हिसा नहीं थे. इस फिल्म के लिए तब शबाना आजमी ने अपने बाल तक मुंडवा लिए थे लेकिन फिल्म के कुछ हिसी शूट होने के बाद बनारस में इस फिल्म का सेट तोड़ दिया गया और विरोध तेज होता देख दीपा मेहता ने यह फिल्म ही बंद कर दी. यह अलग बात है कि बाद में दीपा ने इस फिल को जॉन अब्राहम और लीजा रे के साथ पूरा किया.
इसी तरह फिल्म खाकी के बाद राजकुमार संतोषी ने उन्हें और अजय देवगन, जय प्रदा के साथ फिल्म सिपाही का निर्माण करने जा रहे थे. इस फिल्म की बाकायदा मुहूर्त पार्टी भी हुई थी जिसमें  अमर सिंह भी मौजूद थे. लेकिन बाद में केशू रामसे का यह प्रोजेक्ट अधूरा रह गया. भागमभाग के ही समय वीनस कामनी वाले गोविंदा- अक्षय को लेकर फिल फिल्म बना रहे थे जिसका निर्देशन डेविड धवन कर रहे थे लेकिन बाद में फिल्म नहीं बन पाई.

हत्या द मर्डर, मेरी बीवी का जवाब नहीं और पुलिस फ़ोर्स
हत्या द मर्डर, मेरी बीवी का जवाब नहीं और पुलिस फ़ोर्स जैसी कुछ ऐसी ही फिल्में थी जो बन तो गयी थीं लेकों रिलीज नहीं हो प् रही थीं. लेकिन अक्षय कुमार ने दरियादिली दिखीते हुए समय निकला और पुराणी फिल्मों को पूरा किया. हत्या फिल्म में तो अक्षय बीच में इतने बदल जाते हैं कि यकीन नहीं होता. इसी तरह श्रीदेवी के साथ मेरी बीवी का जवाब नहीं देखकर आपको मालोम पद जायेगा कि फिल्म भले ही 2000 के बाद रिलीज हुई हो  लेकिन दोनों का 90 के दशक का ही है. ऐसे विद्रोह के नाम से बन रही फिल्म को बाद में पुलिस फ़ोर्स के नाम से कई साल बाद रिलीज किया गया.