Print Friendly, PDF & Email

support-londons-air-ambula

मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) देश की पहली हेलिकॉप्टर सर्विस शुरू करने पर विचार कर रही है| जिससे चुनिंदा अस्पतालों में हादसों में घायल लोगों को इलाज के लिए पहुंचाया जा सकेगा। इसके अलावा एक जगह से दूसरी जगह अंग पहुंचाने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जा सकेगा। बीएमसी ने इसके लिए मुमकिन लैंडिंग पॉइंट्स भी तलाशी शुरू कर दिया हैं। इसके अलावा जल्द ही वह हेलिकॉप्टर अॉपरेटर्स से इनके लिए आवेदन भी मंगाएगी। यह सर्विस मुफ्त होगी, लेकिन एक्सपर्ट्स ने इसकी व्यवहारिकता पर सवाल उठाए हैं।

हेलिकॉप्टर की लैंडिंग और टेक अॉफ की जगहों के लिए ओवल मैदान पर विचार किया जा रहा है। इसके अलावा हॉस्पिटलों की छतों का भी मुआयना किय जा रहा है| वहीं एक्सपर्ट्स ने इस प्लान को अस्पष्ट बताते हुए कहा कि “यह प्लान तभी अमल में लाया जा सकता है जब बीएमसी सभी फैक्टर्स खासकर लागत को ध्यान में रखे।” उन्होंने सवाल उठाया है कि “फायर ब्रिगेड अपना बिल देती है| लेकिन हेलिकॉप्टर मरीज को एयरलिस्ट करने के काम आएगा, तो पेमेंट कैसे पूरा किया जाएगा।”

उन्होंने कहा कि “पहले से बुक किए हुए दो इंजन वाले हेलिकॉप्टर की फीस 1.25 लाख रुपये प्रति घंटे होती है जबकि सिंगल इंजन वाले की 80 हजार रुपये। अगर हेलिकॉप्टर कुछ ही मिनटों के लिए उड़ान भरता है, तब भी अॉपरेटर एक घंटे के पैसे ही चार्ज करेगा। तो इतना खर्चा कौन सहेगा।” हाल ही में महालक्ष्मी रेलवे स्टेशन के पास एक पक्षी को बचाते हुए 3 फायरब्रिगेड के कर्मचारी झुलस गए थे। उन्होंने एरौली में नैशनल बर्न्स सेंटर ले जाते वक्त भारी ट्रैफिक का सामना करना पड़ा था, जिससे उनके इलाज में देरी हो गई थी। इस कारण एक फायरफाइटर की मौत भी हुई थी। इसके बाद नागरिक प्रशासन हेलिकॉप्टर सर्विस के प्लान पर काम करने की सोची।