Saturday, January 19, 2019

डायन कुप्रथा पर आधारित नाटक का मंचन

हिंद वॉच ब्यूरो रिपोर्ट भोपाल : शहर के शहीद भवन में इन दिनों रंग त्रिवेणी नाट्य उत्सव-4 का आयोजन किया जा रहा है। इस नाट्य उत्सव में...

नुक्कड़ नाटक के जरिए  ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ का सदेश

हाथरस। दिल्ली पब्लिक स्कूल, हाथरस का उद्देश्य है कि समाज में छिपी हुई बुराइयों को दूर करने का प्रयास किया जाए और समाज को...

गोडसे पर आधारित नाटक में बवाल, बीएचयू की इजाजत पर जांच...

एक नाटक को लेकर काफी बवाल हो रहा है, नाटक भी ऐसा जो सुनने में ही विवादास्पद लगता है। दरअसल काशी हिंदू विश्वविद्यालय( बीएचयू)...

सबै जात गोपाल की -(नाटक)- भारतेंदु हरिश्चंद्र

(एक पंडित जी और एक क्षत्री आते हैं) क्षत्री : महाराज देखिये बड़ा अंधेर हो गया कि ब्राह्मणों ने व्यवस्था दे दी कि कायस्थ भी...

सिपाही की माँ (नाटक)- मोहन राकेश

देहात के घर का आँगन, अँधेरा और सीलदार आँगन के बीचोबीच एक खस्ताहाल चारपाई पड़ी है। एक और वैसी ही चारपाई दीवार के साथ...

मर्द और औरत (नाटक)- रशीद जहाँ

औरत - अरे फिर आ गये! मर्द - जी हाँ औरत - अभी कल ही तो आप शादी करने गये थे! मर्द - गया तो था! औरत -...

रीढ़ की हड्डी (नाटक)- जगदीशचंद्र माथुर

उमा : लड़की रामस्‍वरूप : लड़की का पिता प्रेमा : लड़की की माँ शंकर : लड़का गोपालप्रसाद : लड़के का बाप रतन : नौकर बाबू : अबे, धीरे-धीरे चल!... अब...