Print Friendly, PDF & Email

रायपुर (नेशनल डेस्क)।
लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ माना जाने वाला मीडिया, दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में भयभीत नज़र आ रहा है। इस डर की एक बानगी छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में तब देखने को मिली, जब वहां के पत्रकारों ने भारतीय जनता पार्टी के एक कार्यक्रम को कवर करने के दौरान हेलमेट पहनकर काम किया। यह एक ऐसा अद्वितीय नज़ारा था जो पहले देश के किसी कोने में देखने-सुनने को नहीं मिला था। रायपुर नगर निगम में बीजेपी पार्षदों के प्रदर्शन के दौरान अनेक पत्रकारों ने हेलमेट पहनकर कार्यक्रम को कवर किया।

पत्रकारों के मुताबिक बीजेपी के खिलाफ यह उनका विरोध प्रदर्शन था। यह विरोध दो फरवरी की घटना को लेकर है। उस दिन बीजेपी के प्रदेश कार्यालय एकात्म परिसर में बैठक आयोजित की गई थी। इसके कवरेज के दौरान एक पत्रकार सुमन पांडेय के साथ (कथित तौर पर) मारपीट की गई।

इस मामले में पुलिस ने रायपुर बीजेपी प्रमुख राजीव अग्रवाल और तीन पार्टी पदाधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाया गया है। पत्रकारों का दल आरोपियों को पार्टी से निलंबित करने की मांग कर रहा है। इसके तहत बीते शनिवार देर रात तक बीजेपी के प्रदेश कार्यालय के बाहर पत्रकारों ने धरना भी दिया था।