Print Friendly, PDF & Email

दिल्ली में हो रही सीलिंग के विरोध में आज दिल्ली व्यापार बंद का एलान हुआ है। इस बंद का फैसला लिया है कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने। कैट ने आह्वान किया है। इस पर 2000 से अधिक व्यापारिक संगठनों के 7 लाख से ज्यादा व्यापारी अपना कारोबार बंद रखेंगे।

जानकारी के मुताबिक थोक बाजार और रिटेल बाजार सभी आज दिल्ली में बंद रहेंगे और कोई भी कारोबारी गतिविधियां नहीं होंगी।

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल के मुताबिक शहरी क्षेत्र में चांदनी चौक, खरी बावली, कश्मीरी गेट, सदर बाजार, चावड़ी बाजार, नई सड़क, नया बाजार, श्रद्धानन्द बाजार, लाहौरी गेट, दरियागंज, मध्य दिल्ली में कनॉट प्लेस, करोल बाग, पहाड़गंज, खान मार्केट, उत्तरी दिल्ली में कमला नगर, अशोक विहार, मॉडल टाउन, शालीमार बाग, पीतमपुरा, पंजाबी बाग, पश्चिमी दिल्ली में राजौरी गार्डन, तिलक नगर, उत्तमनगर, जेल रोड, नारायणा, कीर्ति नगर, द्वारका, जनकपुरी, दक्षिणी दिल्ली में ग्रेटर कैलाश, साउथ एक्सटेंशन, डिफेंस कॉलोनी, हौज खास, ग्रीन पार्क, युसूफ सराय, सरोजिनी नगर, तुगलकाबाद, कालकाजी और पूर्वी दिल्ली में लक्ष्मी नगर, प्रीत विहार, मयूर विहार, शाहदरा, कृष्णा नगर, गांधी नगर, दिलशाद गार्डन, लोनी रोड सहित प्रमुख बाजार पूरे तौरपर बंद रहेंगे।

दिनभर के दिल्ली व्यापार बंद के दौरान व्यापारी राजधानी में 6 जगहों पर धरना करेंगे, जिनमें चावड़ी बाजार मेट्रो स्टेशन पर, कमला नगर, मॉडल टाउन, राजौरी गार्डन, साउथ एक्सटेंशन व कृष्णा नगर शामिल है। विभिन्न बाजारों में व्यापारी सुबह विरोध मार्च भी निकालेंगे।

व्यापारियों की मांग है कि सरकार दिल्ली के व्यापार को सीलिंग से बचाने के लिए तुरंत आवश्यक कदम उठाए।
दूसरी ओर 31 दिसंबर 2017 तक दिल्ली में ‘जहां है-जैसा है’ के आधार पर एक एमनेस्टी स्कीम दी जाए, 351 सड़कों को दिल्ली सरकार तुरंत अधिसूचित करे एवं अतिरिक्त निर्माण पर एफ. ए. आर. को अविलंब बढ़ाया जाए।

कैट ने यह भी कहा कि ‘लोकल शॉपिंग सेंटर्स कमर्शल दरों पर दिए गए थे इसलिए उनसे कन्वर्जन चार्ज लेना कहां तक उचित है और उनको सील किया जाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है।

दिल्ली में जिस तरह से सीलिंग हो रही है और नगर निगम कानून को ताक पर रख दिया है उसको लेकर व्यापारी बेहद रोष में हैं।’

इस बंद से जाहिर है आम लोगों को तो दिक्कत होगी ही साथ में व्यापारियों को भी खासा नुकसान होगा। आशा है सरकार इस बंद को लेकर कुछ कदम उठाएगी और कैट से बातचीत कर कोई बीच का रास्ता निकालेगी।