गलत पेपर देने से छात्रों का हंगामा

Moradabad: Students appear in the 12th class examination of Uttar Pradesh Board at an examination centre in Moradabad on Tuesday. PTI Photo (PTI2_6_2018_000027B)
Print Friendly, PDF & Email

हाथरस/ पेपर किसी विषय का और पेपर दिया जा रहा है किसी और विषय का तथा इसे युनिवर्सिटी की भूल कहा जाये या लापरवाही? और छात्रों ने हंगामा किया तो उनके साथ अभद्रता की गई जिससे भारी बखेडा हो गया।

जानकारी के मुताबिक आज बी.ए. तृतीय वर्ष का अंग्रेजी का पेपर था और आज जो पेपर होना था वह एप्लाइड ग्रामर का था लेकिन परीक्षा केन्द्रों पर छात्र-छात्राओं को एप्लाइड ग्रामर की बजाय दूसरा पेपर कम्प्रेशन स्किल का दे दिया गया।

जिसे देख छात्र-छात्राओं का दिमाग घूम गया और परीक्षार्थियों ने तत्काल शिकायत कालेज प्रशासन से की जिससे कालेज प्रशासन में भी खलबली मच गई। बताया जाता है कालेज प्रशासन द्वारा परीक्षार्थियों को उक्त परीक्षा देने पर मजबूर किया गया तो उन्होंने जमकर हंगामा काटा।

हसायन के भूदेवी खुशालेराम पीजी कालेज में परीक्षार्थियों ने गलत पेपर की शिकायत कालेज प्रशासन से की गई तो कालेज प्रशासन ने उनकी नहीं सुनी तो छात्रों ने कालेज के बाहर आकर गेट पर जमकर विरोध प्रदर्शन किया।

छात्रों का आरोप था कि उनके भविष्य के साथ खिलवाड किया गया है और उन्हें गलत पेपर दे दिया गया।

इधर बी.ए. तृतीय वर्ष के छात्र आदित्य शर्मा निवासी गिजरौली ने डा. भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय के कुलपति को शिकायती पत्र भेजकर कहा है कि वह लक्ष्मीचन्द्र कटोरी देवी महाविद्यालय का छात्र है और उसका सेंटर जगन्नाथ प्रसाद पी.जी. कालेज कोटा में पडा है।

उसका आरोप है कि आज कालेज संचालकों ने उसे गलत पेपर हल करने को दे दिया और छात्र-छात्राओं ने पेपर देने से इंकार किया तो उन सभी से जवरन लिखवा लिया लेकिन उसने विरोध किया तो आरोप है कि कालेज संचालक ने उसे मारापीटा और पिस्टल दिखाकर धमकी दी जिसके बाद वह पेपर छोडकर चला आया।

शिकायत में आरोप लगाते हुए कहा गया है कि जिन छात्रों ने कालेज संचालक को 4 हजार रूपये दिये हैं वह उनको नकल करा रहा है तथा फ्लाइंग के आने पर ही कैमरे चालू होते हैं और इनके पास किसी भी पेपर की 3 घण्टे की रिकाॅर्डिंग नहीं है।

पीडित छात्र ने कुलपति से मांग की है कि उक्त मामले की जांच कराकर कालेज संचालक के खिलाफ कडी कार्यवाही की जाये।





SHARE
Previous articleसांसदों ने प्रधानमंत्री से 14 नवम्बर की जगह 26 दिसम्बर को बाल दिवस मनाने की मांग की
Next articleआधार कार्ड पर जाति दर्ज कराने का पेंच
नीरज चक्रपाणी उत्तर प्रदेश के हाथरस में सक्रीय पत्रकारिता कर रहे हैं। रिपोर्टिंग का लम्बा अनुभव रखने वाले नीरज ने अनेक प्रतिष्ठित मीडिया सस्थानों के साथ काम किया है। नीरज हिंद वॉच मीडिया के लिए हाथरस से नियमित तौर पर स्वतंत्र एवं स्वैच्छिक रूप से रिपोर्टिंग करते रहे हैं। सटीक, निर्भीक और प्रमाणिक जमीनी पत्रकारिता उनकी विशेषता है। हिंद वॉच मीडिया समूह जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रहा है। साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल, वेब चैनल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता और निडरता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाने के लिए हिंद वॉच मीडिया पूरी समर्पण से काम करता है। भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है।
Hi this is test content
loading...