Print Friendly, PDF & Email

रांची, झारखण्ड
कृषि, पषुपालन एवं सहकारिता मंत्री रणधीर कुमार सिंह ने कहा कि वर्ष 2022 तक राज्य में किसानों की आय को दोगुणा करने हेतु सरकार कृतसंकल्पित है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संकल्प को पूरा करने करने के लिए मुख्यमंत्री रघुवर दास के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा गांव, गरीब एवं किसानों के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं चलायी जा रही हैं। झारखण्ड के 28 बाजार समितियों में से 19 बाजार समितियों को e-Name से जोड़ा गया है। राज्य के छोटे-छोटे हाट बाजारों को e-Name एवं e-Training से जोड़ा जाएगा। किसानों को उत्पाद के उचित मूल्य मिले यही राज्य सरकार की प्राथमिकता है। जल्द ही देश की मंडियो से राज्य के हाट बाजारों को ई-ट्रेनिंग के माध्यम से जोड़ने का कार्य किया जाएगा ताकि यहां के किसानों को बाजार मूल्य की पूरी जानकारी मिले। उक्त बातें कृषि, पषुपालन एवं सहकारिता मंत्री रणधीर कुमार सिंह ने आज प्रोजेक्ट भवन स्थित सभागार में राष्ट्रीय कृषि बाजार e-Name पर आयोजित कार्यशाला को संबोधित करते हुए कही।
मंत्री रणधीर कुमार सिंह ने कहा कि सरकार द्वारा कृषि उत्पादन के क्षेत्र को पूरे देश में एक बाजार से जोड़ा गया है। देश में राष्ट्रीय कृषि बाजार का विकास किया जा रहा है। इसके लिए इन्टरनेट आधारित व्यापर पोर्टल विकसित किया गया है जो देश की सभी मंडियों को उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके साथ कृषि उपज मंडी के कर्मचारियों व व्यापारियों के प्रशिक्षण एवं आधारभूत सरंचना आदि के लिए वित्तीय सहायता भी उपलब्ध कराई जा रही है। झारखण्ड राज्य के बाजार समितियों को जल्द ही सुदृढ़ किया जाएगा। राज्य सरकार द्वारा बजट सपोर्ट देकर मार्केटिंग बोर्ड के आर्थिक संरचना को सुधारा जाएगा ताकि बोर्ड किसानों के हित में प्रभावषाली तरीके से कार्य कर सके। किसानों को अच्छा मार्केट उपलब्ध कराने हेतु सरकार प्रयासरत है।
रणधीर कुमार सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय कृषि बाजार को ऐसी व्यवस्था के रूप में विकसित किया गया है कि इससे जुड़े हर वर्ग को लाभ मिल सके, किसान को राष्ट्रीय कृषि बाजार के माध्यम से कृषि उत्पाद विक्रय में अधिक दाम मिलेगा। स्थानीय व्यापारियों को अपने ही प्रदेश के अन्य भागों में तथा अन्य राज्यों में कृषि उत्पाद खरीदने व बेचने का मौका मिलेगा। थोक व्यापारियों एवं मिल संचालकों को सीधे राष्ट्रीय कृषि बाजार के माध्यम से दूर स्थित मंडियों से कृषि उत्पाद खरीदने का मौका मिलेगा। ग्राहकों को कृषि उपज आसानी से उपलब्ध होगी एवं मूल्य स्थिर रहेगा। बड़े पैमाने पर खरीद होने से गुणवत्ता सुनिश्चित होगी तथा बिक्री न होने के कारण उपज खराब नहीं होगी।
मंत्री रणधीर कुमार सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री रघुवर दास के नेतृत्व में राज्य के किसानों की आय में वृद्धि हेतु प्रयास किया जा रहा है। किसानों को खेती के साथ-साथ मछली उत्पादन, दुग्ध उत्पादन, पशुपालन, सब्जी उत्पादन, जैविक खेती, मधुमक्खी पालन इत्यादि क्षेत्र में भी रोजगार से जोड़कर आत्मनिर्भर बनाया जा रहा है। झारखण्ड सब्जी उत्पादन के क्षेत्र में अग्रणी राज्यों के श्रेणी में आता है। झारखण्ड में सब्जी उत्पादन अधिक मात्रा में होती है इसे देखते हुए सरकार ने राज्य के प्रत्येक प्रखण्ड में एक-एक कोल्ड रूम बनाने का निर्णय लिया है। जल्द ही सभी प्रखण्डों में कोल्ड रूम बनकर तैयार हो जाएंगे। वैसे क्षेत्र जहां अधिक मात्रा में किसान सब्जी उत्पादन करते हैं उन क्षेत्रों में कोल्ड रूम का नेटवर्क बिछाना है। राज्य में फूड प्रोसेसिंग के निर्माण पर भी तेज गति से कार्य किया जा रहा है। रांची जिले के नगड़ी में किसानों के लिए फूड प्रोसेसिंग केन्द्र का स्थापना किया जा चुका है। वर्तमान में इस केन्द्र में मटर, कटहल एवं टमाटर का प्रोसेसिंग कार्य प्रारम्भ है।
रणधीर कुमार सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय कृषि बाजार e-name पर आयोजित इस एक दिवसीय कार्यशाला में स्टेट होल्डर्स भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं साथ ही किसानों के हित में, किसानों के सर्वांगीण विकास में सहयोग करें। उन्होंने कहा कि स्टेट होल्डर्स, कापरेटिव एवं चेम्बर ऑफ कॉमर्स राज्य के विकास में कृषकों के हित में दृढ़ इच्छाशक्ति सके साथ कार्य करें। राष्ट्रीय कृषि बाजार एवं ई-ट्रेनिंग की पूरी जानकारी ग्रामीण क्षेत्रों के किसानों को नुक्कड़ नाटक के जरिए प्रचार-प्रसार कर उपलब्ध कराएं।
इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री सुधीर त्रिपाठी ने कहा कि स्टेट होल्डर्स के साथ राष्ट्रीय कृषि बाजार e-Name एवं e-Training पर कार्यशाला का आयोजन सराहनीय कार्य है। प्रधानमंत्री एवं राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा एक साझा विकास यात्रा की शुरूआत की गई है। इस विकास यात्रा में हम सब सहभागी बनें। सरकार ने विकास कार्यों का एक साकारात्मक रूप रेखा तैयार किया है। निश्चित समय सीमा में पूरे देश को ओडीएफ करना एवं हर घर तक बिजली पहुंचाने हेतु सरकार द्वारा प्रतिबद्ध प्रयास किया जा रहा है। सरकार के ऐसे कई महत्वाकांक्षी लक्ष्य हैं, जिसे पूरा करने से देश विकसित होगा। वर्ष 2022 तक किसानों के आय में दोगुणी वृद्धि हो इसके लिए केन्द्र एवं राज्य सरकार ने विशेष रूप से कार्य योजना की शुरूआत कर दी है। इन कार्यों का परिणाम भी दिखने लगा है। परिणाममुखी सोच हर स्तर पर होनी चाहिए। लक्ष्य प्राप्ति हेतु सभी स्टेट होल्डर्स, कॉपरेटिव, मार्केटिंग बोर्ड एवं अन्य संबंधित संस्थानों को समन्वय बनाकर कार्य करने की आवश्यकता है। किसानों के समग्र विकास के लिए राज्य सरकार तेज गति से कार्य कर रही है। कोल्ड स्टोरेज, कोल्ड रूम, फूड प्रोसेसिंग केन्द्र इत्यादि के निर्माण कराए जा रहे हैं। किसानों को खेती के साथ-साथ अन्य रोजगार से भी जोड़ा जा रहा है।
कार्यषाला में कृषि, पषुपालन एवं सहकारिता सचिव पूजा सिंघल ने राष्ट्रीय कृषि बाजार e-Name एवं e-Training के संबंध में विस्तृत जानकारी किसानों एवं स्टेट होल्डर्स के बीच रखी। उन्होंने इस पोर्टल के उपयोग एवं लाभ को बताया।
इस अवसर पर झारखण्ड कृषि विपणन पर्षद के प्रबंध निदेषक श्री विमल, पूरे राज्य से आए बाजार समितियों के अधिकारीगण, विभिन्न स्टेट होल्डर्स, चेम्बर ऑफ कॉमर्स के प्रतिनिधि एवं राज्य भर से आए उन्नत किसान वर्ग के लोग उपस्थित थे।
पोस्टल कोड 834001