Print Friendly, PDF & Email

गुजरात चुनाव के रुझान बता रहे हैं कि भाजपा ने एक बार फिर से बाजी मार ली है लेकिन भाजपा की यह जीत कई मानों में एकतरफा नहीं रही जैसे कि हर साल होता आया है। गौरतलब है कि अब तक गुजरात को भाजपा का गढ़ माना जाता रहा है जबकि कांग्रेस की इस बार मौजूदगी से भाजपा के पसीने छूटते दिखे। सिर्फ इतना ही नहीं इस बार हार्दिक पटेल के एराहोल के साथ साझेदारी ने भी भाजपा को चिंता में डाला, हालंकि अब नतीजे भले ही भाजपा के साथ खड़े दिख रहे हों लेकिन भाजपा को यह बात अच्छे से समझ आ गयी है कि आने वाला समय फ्गुज्रात में उनके लिए इतनी आसान राजनीतिक धरातल साबित नहीं होगा जैसा कि होता आया है, अभी तो कांग्रेस का आगाज़ था, अगले चुनावों तक चुनाव अलग हे एतास्वीर बयां करते दिखें तो कोई बड़ी बात नहीं।

बहरहाल अभी के रुझानों और नतीजों से यह साफ हो रहा है कि गुजरात जीत रही है, पीएम नरेंद्र मोदी ने संसद भवन के बाहर ‘विक्‍ट्री’ का निशान बनाकर पत्रकारों को दिखा दिया है। वहीं केंद्रीय मंत्री स्‍मृति ईरानी ने कहा कि ”ये विकास की जीत है, जो जीता वही सिकंदर, ये जीत हमारे बूथ पर तैनात कार्यकर्ता को समर्पित है।” ईवीएम हैकिंग पर उठे सवालों पर पूर्व चुनाव आयुक्‍तों ने कड़ी प्रतिक्रिया दी। पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एच एस ब्रह्म ने कहा, ”मैं इस बात पर पूरी तरह से विश्वास करता हूं कि हमारे ईवीएम और वीवीपैट से छेड़छाड़ नहीं की जा सकती। कई बार इस पर ट्राई किया जा चुका है, अब इस मामले को बंद किया जाना चाहिए। ईवीएम मशीन किसी भी नेटवर्क से नहीं जुड़ती। इसलिए इसकी हैकिंग का कोई सवाल ही नहीं उठता।”

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा कि गुजरात की मतगणना के रुझान प्रेरणात्मक हैं, क्योंकि पार्टी ने बीते विधानसभा चुनावों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस 75 सीटों पर आगे चल रही जो अच्छा संकेत है। यह बीते चुनावों से काफी बेहतर हैं। थरूर ने संसद के बाहर कहा, “क्या हुआ जो हमें मंजिल नहीं मिल सकी, हमारी यात्रा बेहतर रही और अंतिम गणना इससे बेहतर हो सकती है।” उन्होंने कांग्रेस पार्टी के बेहतरीन प्रदर्शन का श्रेय पार्टी के नए अध्यक्ष राहुल गांधी को दिया। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी लोगों के साथ जमीनी तौर पर जुड़े। इन सबके बीच यह बात नहीं भूलनी चाहिए कि आने वाले सालों में कांग्रेस अगर इसी तरह से चुनौती देती रही तो भाजपा के लिए इस तरह जीतना आम बात नहीं होगी।