Print Friendly, PDF & Email

हाथरस जिले में एक बार फिर हुई मानवता शर्मसार, अपने घायल बच्चे के इलाज के लिए एक गरीब और लाचार माँ ने मांगी भीख।

हाथरस के जिला अस्पताल में पर्याप्त इलाज न मिलने की वजह से अपने आठ साल के बेटे की जान बचाने के लिए एक माँ ने जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्साधिकारी के आगे झोली फैलाकर भीख माँगी।

अस्पताल के चिकित्सक ने भीख तो दे दी पर इलाज ने नाम पर कुछ भी न दे सके। उपजिलाधिकारी कार्यालय पर शिकायत लेकर पँहुची एक गरीब माँ मदद के लिये झोली फैलाकर खड़ी रही।

लेकिन एसडीएम साहब चने खाते रहे पर उस गरीब माँ की आवाज उनके कानों तक नही पहुँची लेकिन उनके अधीनस्थों को उस बेबस माँ पर तरस आ गया और उन के कर्मचारियों ने मदद के नाम पर भीख दे दी। मामला हाथरस के लालडिग्गी क्षेत्र का है।

आवारा घूमने वाले सूअरों ने उस पर हमला कर दिया और अपने बाड़े में खींच ले गए, मासूम की माँ जब तक उसको बचाने पहुंची तब तक सुअरोँ ने उसको काफी घायल कर दिया था।

परिजन तत्काल मासूम को जिला अस्पताल लेकर आये जहा डाक्टरों ने मासूम का इलाज किया पर हालत में कोई सुधार नही हुआ तब डाक्टरों ने उसको अलीगढ ले जाने की सलाह दी।

चूँकि महिला काफी गरीब है और उसके पास अलीगढ़ के इलाज लायक पैसे नहीं थे उसने अस्पताल प्रसाशन से काफी गुहार लगाई पर उन्होंने सुनवाई नहीं की तो मजबूरन बेबस माँ को अपने बेटे के इलाज के लिए भीख मांगनी पड़ी।





SHARE
पिछली खबरअवैध पटाखा फैक्ट्री में विस्फोटः मकान की छत उड़ी
अगली खबर मासूम बच्चे का शव मिलते ही मचा कोहराम
नीरज चक्रपाणी उत्तर प्रदेश के हाथरस में सक्रीय पत्रकारिता कर रहे हैं। रिपोर्टिंग का लम्बा अनुभव रखने वाले नीरज ने अनेक प्रतिष्ठित मीडिया सस्थानों के साथ काम किया है। नीरज हिंद वॉच मीडिया के लिए हाथरस से नियमित तौर पर स्वतंत्र एवं स्वैच्छिक रूप से रिपोर्टिंग करते रहे हैं। सटीक, निर्भीक और प्रमाणिक जमीनी पत्रकारिता उनकी विशेषता है। हिंद वॉच मीडिया समूह जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रहा है। साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल, वेब चैनल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता और निडरता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाने के लिए हिंद वॉच मीडिया पूरी समर्पण से काम करता है। भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है।