टूटे हुए छत्त के नीचे विधवा महिला प्रतिभा देवी (तस्वीर : हिंद वॉच)
Print Friendly, PDF & Email

सिमडेगा से ग्रास रुट रिपोर्टर देवदर्शन बड़ाईक की रिपोर्ट
सिमडेगा, झारखंड
कोलेबिरा के धोबी मोहल्ला निवासी प्रतिभा देवी(23 वर्ष) पति (स्व. अंडरु बैठा) अपने बच्चे अनन्या कुमारी (4 वर्ष) ईशानी कुमारी (2 वर्ष) एवं अपने सास कोकी देवी(55 वर्ष) के साथ रहती है। इस विधवा महिला द्वारा सभी का लालन-पालन मजदूरी कर अपने बच्चे एवं अपनी सास का करती है किन्तु रविवार रात वह अपने छोटे से घर में सोई हुई थी कि अचानक छप्पर टूटने की आवाज सुनकर वह बाहर भाग खड़ी हुई।

पड़ोसियों की मदद से उसके घर को दो लकड़ी के खंभे के सहारे छप्पर को सहारा देकर रखा गया है। प्रतिभा देवी लाचार होने के कारण अगल बगल के लोगों से मरम्मत करने की गुहार लगा रही है। यहां तक की उसकी सास को भी ना विधवा पेंशन मिलता है और ना ही वृद्धा पेंशन। इस बात पर मुखिया आलोमनी बागे से पूछने बताया कि स्थिति को देखते हुए मरम्मत करा दिया जाएगा।

जब तक असहाय विधवा स्त्री की छत की मरम्मत नहीं कर दिया जाता है तब तक वह कुछ काम करने के लिए बाहर नहीं निकल सकती है ऐसे में उसकी सास एवं बच्चों के लिए दो वक्त की रोटी का जुगाड़ कैसे होगा? यह उसके लिए चिंता की बात है।
पोस्टल पिन कोड 835201 835211 835212 835223 835226 835228 835235