Print Friendly, PDF & Email

पटना (नेशनल डेस्क)।
पिछले दिनों बिहार का मुजफ्फरपुर बालिका गृह में बच्चियों के साथ बलात्कार की घटना के उजागर होने की वजह से सुर्ख़ियों में रहा। अब यह शहर एक सांसद और एक पुलिस अधिकारी के बीच पैदा हुए विवाद की वजह से चर्चा में है। सासंद पप्पू यादव ने यह कहा था कि भारत बंद के दौरान उनपर मुजफ्फरपुर में हमला हुआ और पुलिस-प्रशासन ने उनका सहयोग नहीं किया। पप्पू यादव के इन आरोपों का मुजफ्फरपुर की एसएसपी हरप्रीत कौर ने करारा जवाब दिया है। उन्होंने पप्पू यादव को चुनौती देते हुए कहा कि अगर उनपर हमला हुआ है, तो एफ़आईआर क्यों नहीं करवा रहे हैं?

हरप्रीत कौर, एसएसपी

लगातार सांसद महोदय इस तरह के निराधार आरोप लगा रहे हैं। दूसरी सबसे बड़ी बात है कि अपनी पद यात्रा के दौरान वह लगातार “नारी बचाओ आंदोलन” चला रहे हैं और स्वयं को महिलाओं के हितों के “रक्षक” बता रहे हैं और दूसरी तरफ एक महिला अधिकारी के संबंध में मिडिया में ऐसी टिप्पणी कर रहे हैं कि ” एस एस पी मुजफ्फरपुर ने अपने चहेते पत्रकारों को लव लेटर लिख रही हैं “

.

.

आईपीएस हरप्रीत कौर ने इस संबंध मे एक फेसबुक पोस्ट लिखा है। इस पोस्ट में उन्होंने लिखा है कि “माननीय सांसद पप्पू यादव जी लगातार मीडिया में रोते हुए यह आरोप लगा रहे हैं कि उनके ऊपर बंद के दौरान मुजफ्फरपुर जिले में हमला हुआ, उनकी गाड़ी तोड़ दी गई, उनका मोबाइल तोड़ दिया गया, उनके समर्थकों के साथ मारपीट की गई। इस संदर्भ में मैं अपनी बात रखना चाहती हूं। जब उन्होंने अपनी बात मीडिया में रखी तो कुछ मीडिया के लोगों ने हमसे संपर्क किया और पुलिस का पक्ष जानना चाहा तो मैंने कहा कि अगर इस तरह की कोई घटना हुई है तो माननीय सांसद महोदय को पुलिस में FIR दर्ज करवानी चाहिए। मुजफ्फरपुर पुलिस को सांसद साहब और बंद समर्थकों के बीच हुए बातचीत का एक वीडियो मिला था जो हमने मीडिया को दिया, जिसमें किसी भी तरह कि हमले जैसी स्थिति नहीं मालूम चल रही थी। जबकि आजतक भी सांसद साहब के द्वारा इस संदर्भ में कोई F.I.R. दर्ज नहीं करवाया गया है। न ही उनके आरोपों की पुष्टि के लिए उनके साथ हुई कथित मारपीट व तोड़फोड़ के सम्बन्ध में कोई साक्ष्य पुलिस या मिडिया के समक्ष रखा गया है। माननीय सांसद महोदय का यह आरोप है कि उन्होंने मुझे कॉल किया और मैंने फोन नहीं उठाया, जबकि हकीकत यह है कि उस समय वरीय पदाधिकारी के द्वारा पुलिस लाइन का निरीक्षण चल रहा था। और जैसे ही हमें यह मैसेज मिला कि वह बात करना चाहते हैं तो तुरन्त हमने खुद सांसद महोदय से बात की और डीएसपी को घटनास्थल पर रवाना किया। 6 तारीख को माननीय सांसद साहब का मधुबनी जिले में कार्यक्रम था और मुज़फ़्फ़रपुर में कोई भी कार्यक्रम प्रस्तावित नहीं था। उनका आरोप है कि मुजफ्फरपुर पुलिस ने उनको एस्कॉर्ट नहीं दिया, यह बिल्कुल ही गलत है, क्योंकि उनके उस दिन मुजफ्फरपुर आने की कोई भी लिखित या मौखिक सूचना पुलिस के पास नहीं थी। उनका प्रस्तावित कार्यक्रम मुजफ्फरपुर में 9 और 10 तारीख को है। सांसद महोदय मीडिया में आकर बेहद आपत्तिजनक और तथ्यहीन आरोप लगा रहे हैं कि मैं उनकी हत्या की साजिश में शामिल हूं। इस संदर्भ में उनकी जानकारी के लिए कहना है कि पुलिस का काम आम लोगों को सुरक्षा देना है न कि किसी की हत्या करवाना। हम एक पुलिस अधिकारी हैं जो कि ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ अपना काम कर रहे हैं। हमारी उनसे क्या दुश्मनी है भला। फिर भी लगातार सांसद महोदय इस तरह के निराधार आरोप लगा रहे हैं। दूसरी सबसे बड़ी बात है कि अपनी पद यात्रा के दौरान वह लगातार “नारी बचाओ आंदोलन” चला रहे हैं और स्वयं को महिलाओं के हितों के “रक्षक” बता रहे हैं और दूसरी तरफ एक महिला अधिकारी के संबंध में मिडिया में ऐसी टिप्पणी कर रहे हैं कि ” एस एस पी मुजफ्फरपुर ने अपने चहेते पत्रकारों को लव लेटर लिख रही हैं”। जब कि मेरे द्वारा सिर्फ तथ्यों के आधार पर वस्तु स्थिति को स्पष्ट करने की कोशिश की गई थी उस दिन मीडिया में। एक सांसद महोदय के द्वारा इस तरह की असंसदीय और अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल एक महिला के लिए किया जाना कितना उचित है? और एक तरफ सांसद महोदय नारी सम्मान की बात करते हैं और दूसरी तरफ एक महिला पुलिस अधिकारी के संबंध में मिडिया में लगातार अपमानजनक,असंसदीय और अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं।”

हिंद वॉच मीडिया के पाठक आईपीएस हरप्रीत कौर का फेसबुक पोस्ट नीचे दिए लिंक को क्लिक करके पढ़ सकते हैं :

गौरतलब है कि मुजफ्फरपुर में भारत बंद के दौरान पप्पू यादव ने खुद पर हमले का आरोप लगाया था। पप्पू यादव ने खुद पर अज्ञात लोगों द्वारा हमले का आरोप लगाया था। इस दौरान आपबीती बताते हुए पप्पू यादव भावुक हो गए थे और फूट फूटकर रोने लगे थे। पप्पू यादव ने ट्वीट कर हमले की जानकारी भी दी थी। उन्होंने लिखा था ‘नारी बचाओ पदयात्रा में मधुबनी जाने के दौरान हमारे काफिले पर भारत बंद के नाम पर गुंडों ने हमला किया। कार्यकर्ताओं को बुरी तरह जाति पूछ-पूछकर पीटा गया। आखिर बिहार में कोई शासन प्रशासन है, या नहीं! सीएम नीतीश कुमार आप किस कुंभकर्णी नींद में सोए हुए हैं।’ बता दें कि पप्पू यादव को वाई (Y) कटैगरी की सुरक्षा प्राप्त है।