Print Friendly, PDF & Email

एक दिन बगैर सोचे-समझे दोनों भाई-बहन शाहरुख खान से मिलने के लिए निकल पड़ते हैं। उनके सफर में डर, एडवेंचर और रोमांच है।

प्रमुख कलाकार-हेतल गड्डा, कृष छााबडि़या
निर्देशक-नागेश कुकुनूर
स्टार– 3.5

नागेश कुकुनूर की ‘धनक’ छोटू और परी भाई-बहन की कहानी है। वे अपने चाचा-चाची के साथ रहते हैं। चाचा बीमार और निकम्मा है। चाची उन्हेंं बिल्कुल पसंद नहीं करती। उनके जीवन में अनेक दिक्कतें हैं। भाई-बहन को फिल्मों का शौक है। उनके अपने पसंदीदा कलाकार भी हैंं। बहन शाहरुख खान की दीवानी है तो भाई सलमान खान को पसंद करता है। अपने हिसाब से वे पसंदीदा स्टारों की तारीफें करते हैं और उनसे उम्मीदें भी पालते हैं। भाई की आंखें चली गई हैं। बहन की कोशिश है कि भाई की आंखों में रोशनी लौटे। पिता के साथ एक फिल्म देखने के दौरान बहन को तमाम फिल्मी पोस्टरों के बीच एक पोस्टर दिखता है। उस पोस्टर में शाहरुख खान ने नेत्रदान की अपील की है। यह पोस्टर ही परी का भरोसा बन जाता है।

Click to enlarge

धनक

Click to enlarge

Click to enlarge

Click to enlarge

Click to enlarge

Click to enlarge

घर की झंझटों के बीच परी और छोटू का उत्साह कभी कम नहीं होता। उनका आधा समय तो सलमान और शाहरुख में कौन अच्छा के झगड़े में ही निकल जाता है। छोटू जिंदादिल और प्रखर लड़का है। उसे किसी प्रकार की झेंप नहीं होती। हमेशा दिल की बात कह देता है। सच बता देता है। परी और छोटू को पता चलता है कि जैसलमेर में शाहरुख खान शूटिंग के लिए आए हैं। वे अपने चाचा से शाहरुख के पास चलने के लिए कहते हैं। दब्बू चाचा बहाना बनाता है। एक दिन बगैर सोचे-समझे दोनों शाहरुख से मिलने के लिए निकल पड़ते हैं। उनके सफर में डर, एडवेंचर और रोमांच है। लेखक-निर्देशक नागेश कुकनूर ने उनके सफर के अच्छेे-बुरे अनुभवों का ताना-बाना अच्छा बुना है। उनके साथ संभावित खतरे की जानकारी दर्शकों को जरूर मिलती है, लेकिन परी और छोटू अपने सफर में बेफिक्र आगे बढ़ते जाते हैं। उन्हें नेक व्यक्ति भी मिलते हैं।

फिल्म में आखिरकार बहन परी की तमन्ना पूरी होती है। छोटू की आंखों की रोशनी लौट आती है। बच्चों को मुख्य किरदारों में लेकर बनी यह ‘धनक’ अपने स्वरूप और प्रभाव में ‘चिल्ड्रेन फिल्म’ नहीं रह जाती। उम्मीद और भरोसे की भावना को मजबूत करती यह फिल्म दर्शकों पर जादुई असर करती है। फिल्म की संवेदना झकझोरती है। संवेदनशील बनाती है। यह फिल्म जनमानस में बैठे फिल्म स्टारों के प्रभाव को पॉजीटिव तरीके से पेश करती है। हालांकि फिल्म में कभी भी शाहरुख या सलमान की झलक नहीं मिलती, लेकिन उनकी चर्चा उनकी मौजूदगी का अहसास कराती रहती है। दोनों की चमकदार छवि उभरती है।

‘धनक’ में दोनों बाल कलाकारों हेतल गड्डा और कृष छाबडि़या ने बेहतरीन काम किया है। उनकी बाल सुलभ प्रतिक्रियाएं फिल्म का प्रभाव बढ़ाती है। विपिन शर्मा लाचार चाचा के रूप में अपनी भावमुद्राओं से आकर्षित करते हैं।राजस्थान की पृष्ठभूमि का सुंदर उपयोग हुआ है।





SHARE
पिछली खबरसंपादक मंडल
अगली खबर नवाज शरीफ ने करीब 17 देशों के पीएम को पत्र …
हिंद वॉच मीडिया समूह जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रहा है। साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल, वेब चैनल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता और निडरता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाने के लिए हिंद वॉच मीडिया पूरी समर्पण से काम करता है। भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है।