Print Friendly, PDF & Email

समस्त कंस्ट्रक्शन वर्कर्स वेलफेयर यूनियन द्वारा पश्चिमी दिल्ली में निर्माण क्षेत्र में कार्यरत मजदूरों को संगठित और जागरूक करने का काम किया जा रहा है। इसी कड़ी में 19 मई 2019 को यूनियन के महासचिव विकास शर्मा के नेतृत्व में श्रमिक जागरूकता अभियान के अंतर्गत कार्यक्रम सुल्तान पूरी स्थित शिव मंदिर परिसर में आयोजित किया गया। श्रमिक जागरूकता कार्यक्रम में ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस (एटक) के राष्ट्रीय सचिव विद्या सागर गिरी, दिल्ली राज्य एटक के महासचिव धीरेन्द्र शर्मा, दिल्ली भाकपा राज्य परिषद के सदस्य और भाकपा पूर्वी दिल्ली के सहायक जिला सचिव सुशील कुमार, दिल्ली असंगठित निर्माण मजदूर यूनियन के नेता व सामाजिक कार्यकर्ता थानेश्वर दयाल आदिगौर, एटक की मदर डेयरी यूनियन, मंगोलपुरी प्लांट, के नेता शहाबुद्दीन, समस्त कंस्ट्रक्शन वर्कर्स वेलफेयर यूनियन के नेता राम मूर्ति और मजदूर नेता हरीश चंद्र ने मौजूद मजदूरों को संबोधित किया। कार्यक्रम का संचालन समस्त कंस्ट्रक्शन वर्कर्स वेलफेयर यूनियन के महासचिव विकास शर्मा ने किया।

कार्यक्रम की शुरुआत में बोलते हुए राम मूर्ति ने निर्माण मजदूरों के अधिकारों और सरकार से मिलने वाली सुविधाओं पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि कंस्ट्रक्शन वर्कर्स वेलफेयर बोर्ड द्वारा दिल्ली के निर्माण मजदूरों को 18 प्रकार की विशेष योजनाओं के तहत सुविधाएं दी जाती है। राम मूर्ति ने विस्तार से सभी सुविधाओं के बारे में बताकर मौजूद सभी स्त्री और पुरुष निर्माण मजदूरों को जागरूक किया। उन्होंने यह भी कहा कि जिस मजदूर साथी का रजिस्ट्रेशन कंस्ट्रक्शन वर्कर्स वेलफेयर बोर्ड में अभी तक नहीं हुआ है, यूनियन उसका रजिस्ट्रेशन करवाने में पूरी मदद करेगा।
दुसरे वक्ता के रूप में बोलते हुए भाकपा नेता और वरिष्ठ पत्रकार सुशील कुमार ने कहा कि संगठन एक परिवार की तरह होता है और परिवार में रहकर हमें हिम्मत मिलती है। उन्होंने कहा कि अपने अधिकारों को हासिल करने का एक ही रास्ता है और वह है संगठित होकर संघर्ष करना। सुशील कुमार ने कार्यक्रम में मौजूद निर्माण मजदूरों का आह्वाहन किया कि वे सभी मजदूरों को यूनियन के साथ जोड़ें और संघर्ष को आगे बढायें। उन्होंने कहा कि पिछले पांच सालों में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र की भाजपा सरकार ने श्रम कानूनों में मजदूर विरोधी बदलाव किया है। पूंजीपतियों और कॉर्पोरेट घरानों की पक्षधर केंद्र सरकार ने 44 केन्द्रीय श्रम कानूनों को अप्रभावी बनाकर मजदूर हितों का दमन करने का काम किया है। उन्होंने यह भी कहा कि अपने खून-पसीने से दुनिया को रहने लायक बनाने वाले मजदूर अगर संगठित नहीं हुए तो मजदूर विरोधी ताकतें उन्हें फिर से गुलामी के रास्ते पर धकेल देगी।

दिल्ली असंगठित निर्माण मजदूर यूनियन के नेता व सामाजिक कार्यकर्ता थानेश्वर दयाल आदिगौर ने मजदूरों को विस्तार से बताया कि कैसे वे अपना रजिस्ट्रेशन वेलफेयर बोर्ड में करवाकर सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं। उन्होंने कहा कि लम्बी लड़ाई के बाद कंस्ट्रक्शन लेबर के लिए सामाजिक सुरक्षा का यह क़ानून 1996 में बना, जिसके तहत 2002 में दिल्ली में निर्माण मजदूर कल्याण बोर्ड का गठन हुआ। दिल्ली में आज तक इस बोर्ड ने साढ़े पांच लाख से ज्यादा निर्माण मजदूरों का रजिस्ट्रेशन किया है जिनको सभी 18 प्रकार की सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का लाभ मिल रहा है। थानेश्वर ने विस्तार से वेलफेयर बोर्ड के कार्ड के नवीनीकरण, योजनाओं के आवेदन और अन्य तकनीकी जानकारियों को भी मजदूर साथियों से साझा किया।


ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस (एटक) के राष्ट्रीय सचिव विद्या सागर गिरी ने अपने संबोधन में कहा कि सामजिक सुरक्षा के क़ानून को बनवाने के लिए श्रम संगठनों और श्रमिकों ने लंबा संघर्ष किया है और कुर्बानी दी है। उन्होंने आम बोलचाल की भाषा में मजदूरों को समझाते हुए कहा कि आज का यह जागरूकता कार्यक्रम शिव मंदिर परिसर में हो रहा है इसलिए यह जरुरी है कि भगवान शिव और भस्मासुर की कहानी को याद किया जाए। जिस तरह से भगवान शिव की घोर तपस्या से भस्मासुर किसी को भी भस्म कर देने का वरदान प्राप्त करने के बाद खुद शंकर भगवान को ही भस्म करने पर अमादा हो गया था, नरेन्द्र मोदी ने भी भस्मासुर की तरह जनता का वोट लेकर जनता को ही खत्म करने के काम पिछले पांच सालों में किया है। अंग्रेजों से लड़कर यूनियन बनाने और हड़ताल करने का जो अधिकार मजदूरों ने हासिल किया था, मोदी सरकार ने श्रम कानूनों को अप्रभावी बनाकर उन लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन किया है।

मदर डेयरी मंगोलपुरी प्लांट की यूनियन के नेता सहाबुद्दीन ने कहा कि आज सभी मजदूरों को एकजूट होकर लड़ने की जरूरत है और जहाँ भी निर्माण मजदूरों को जरुरत होगी मदर डेयरी यूनियन के साथी उनके सहयोग के लिए हमेशा तैयार रहेंगें।

आखिरी वक्ता के तौर पर बोलते हुए दिल्ली राज्य एटक के महासचिव धीरेन्द्र शर्मा ने कहा कि यह मजदूर आन्दोलनों का इतिहास रहा है कि मजदूरों को लड़कर अपने अधिकारों को छींनकर हासिल करना पड़ा है, इसलिए संगठित होकर संघर्ष के लिए आप सबको तैयार रहना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि एटक हमेशा आपके संघर्षों में आपके साथ खड़ा है।

दोपहर के भोजन के बाद भी श्रमिक जागरूकता अभियान जारी रहा। 70 से अधिक महिला-पुरुष निर्माण मजदूर साथियों ने इस जागरूकता कार्यक्रम में सक्रियता से भाग लिया। यह तय किया गया कि श्रमिक जागरूकता अभियान के तहत ऐसे कार्यक्रमों को लगातार अन्य स्थानों पर आयोजित किया जाता रहेगा। समस्त कंस्ट्रक्शन वर्कर्स वेलफेयर यूनियन के महासचिव विकास शर्मा द्वारा धन्यवाद ज्ञापन के साथ ही श्रमिक जागरूकता कार्यक्रम सम्पन्न हुआ।





SHARE
पिछली खबरप्लॉगिंग रन : पर्यावरण और स्वास्थ्य के लिए वेलमैन फाउंडेशन की अनूठी पहल
हिंद वॉच मीडिया समूह जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रहा है। साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल, वेब चैनल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता और निडरता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाने के लिए हिंद वॉच मीडिया पूरी समर्पण से काम करता है। भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है।