Print Friendly, PDF & Email

मुंबई
राठा आरक्षण की मांग को लेकर महाराष्ट्र के कई इलाकों में आंदोलन उग्र और हिंसक हो गया। मराठा क्रांति मोर्चा ने आज महाराष्ट्र बंद का ऐलान किया है। औरंगाबाद में मराठा आंदोलनकारी काका साहेब द्वारा गोदावरी नदी में छलांग लगाकर जल समाधि लेने के बाद महाराष्ट्र बंद का फैसला किया गया है। बंद का सबसे ज्यादा असर मराठवाड़ा इलाके में दिख रहा है। यहां स्कूल और कॉलेज बंद हैं। औरंगाबाद में इंटरनेट सेवाएं रोक दी गईं और प्रदर्शनकारी धरना दे रहे हैं।

महाराष्ट्र बंद के दौरान सार्वजनिक परिवहन सेवा, एम्बुलेंस और अति आवश्यक सेवाओं पर कोई असर नहीं पड़ेगा। मुंबई सातारा, सोलापुर और पुणे को बंद में शामिल नहीं किया गया है। समन्वय समिति ने सरकार को 2 दिन का अल्टिमेटम दिया है जिससे उनकी मांग को पूरा किया जाए, नहीं तो राज्य भर में तेज आंदोलन की चेतावनी दी है। बंद के ऐलान के बाद राज्य में सुरक्षा एजेंसियों को सतर्क कर दिया गया है।

गौरतलब है कि मराठा आंदोलनकारी काका साहेब द्वारा जलसमाधि लेने के बाद परिजन ने शव लेने से इनकार कर दिया है और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के इस्तीफे की मांग की है। इस बीच फडणवीस ने युवक की मौत को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुये परिवार को मदद का भरोसा दिया है साथ ही लोगों से हिंसा नहीं करने की अपील की है।

उधर, कांग्रेस ने मुख्यमंत्री पर मराठा आरक्षण को लेकर निशाना साधा है। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने खुद आरक्षण देने का वादा किया था, लेकिन आज वो अपनी ही बात से मुकर रहे हैं।