Print Friendly, PDF & Email

रांची, झारखंड
डीजी डीके पांडेय ने कहा कि विरोध का प्रदर्शन शांतिपूर्ण तरीके से करना चाहिए, हथियार के साथ यदि प्रदर्शन किया जाता है तो इसके विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। गृह, कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव एसकेजी रहाटे ने कहा कि बंद से लोग डरे नहीं अपना सामान्य दैनिक जीवन का कार्य करें प्रशासन की चाक चौबंद व्यवस्था रहेगी। यदि अमनपसंद लोगों को उनके दैनिक जीवन कार्यों एवं कार्य व्यापार में किसी प्रकार की बाधा पहुंचाने की कोशिश बंद समर्थकों द्वारा की जाती है, विध्वंसक कार्रवाई की जाती है तो उनके विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। चाहे कोई भी हो उसे बख्शा नहीं जाएगा।

बंद में यदि किसी प्रकार की हिंसा अथवा सरकारी संपत्ति की क्षति होती है तो उसकी क्षति-पूर्ति बंदी का आह्वान करने वाले नेताओं से वसूला जाएगा। गृह सचिव ने बताया कि 5 जुलाई को राजनीतिक दलों द्वारा झारखण्ड बंद का आह्वान किए जाने के मद्देनजर झारखंड सरकार ने उपद्रवियों से निपटने के लिए व्यापक इंतजाम किए हैं। बंदी से निपटने के लिए कुल 5000 से अधिक की संख्या में पुलिस बल एवं पदाधिकारियों को विधि व्यवस्था संधारण हेतु लगाया गया है। इसके अतिरिक्त रैफ की दो कंपनियां, रैप की छः कंपनियां, 3100 गृह रक्षा वाहिनी के साथ-साथ टीयर गैस और राइट कंट्रोल यूनिट की प्रतिनियुक्ति भी की गई है।गृह विभाग के प्रधान सचिव एसकेजी रहाटे तथा पुलिस महानिदेशक डीके पांडेय 5 जुलाई को राज्य स्तरीय बंद को देखते हुए पुलिस की तैयारियों के संबंध में संयुक्त रूप से प्रेस को संबोधित कर रहे थे।

इधर भूमि अधिग्रहण संशोधन कानून के खिलाफ बंद को सफल बनाने के लिए सम्मपूर्ण विपक्ष भी चरणबद्ध कार्यक्रम कर रही है| पदयात्रा एवं नुक्क्ड़ सभा आयोजित कर विपक्षी दलों के नेता-कार्यकर्ताओं ने आम जनता से समर्थन मांगा। पदयात्रा के उपरांत रांची के अल्बर्ट एक्का चौक, एकरा मस्जिद, चर्च कॉप्लेक्स, सुजाता चौक, लालपुर, कांटा टोली, कचहरी, रातू रोड, किशोर गंज, हरमू एवं अरगोड़ा चौक में नुक्क्ड़ सभा आयोजित की गयी।

पदयात्रा सह नुक्कड़ सभा मे मुख्य रूप से झाविमो के केंद्रीय सचिव राजीव रंजन मिश्रा, कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता शमसेर आलम, संजय पांडेय, झामुमो नेता अंतु तिर्की, भाकपा(माले के भुनेश्वर केवट, सीपीआई के अजय सिंह, मासस के सुशांतो मुखर्जी, झाविमो नेता मुजीब कुरैसी, जितेन्द्र वर्मा, महिला नेत्री सुचिता सिंह, राकेश सिन्हा नजीबुल्लाह खान, नदीम इकबाल, पंकज पांडेय, गीता नायक, मो अकबर, विद्या सिंह, उमा संकर ताँती, पीयूष आनंद, मो वाहिद, मौसिन खान झामुमो के हेमलाल मेहता, आफताब आलम, फैयाज साह, रीना तिर्की,प्रवेज खान, गुलाम रब्बानी, झारखंड तंजीम के महबूब आलम, कमल ठाकुर, रहमत अली,आईएसफ़ के मेहुल मिरगेन्द्र, राजद के कमलेश यादव, अब्दुल गफार सहित सैकड़ों की तादात में विपक्षी दलों के कार्यकर्ता सामिल हुए एवं नुक्क्ड़ सभा को सम्बोधित किया। इससे पूर्व झाविमो, झामुमो, कांग्रेस,सीपीआई, सीपीएम, माले, मासस एवं राजद के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने झंडा-बैनर के साथ ध्वनि यन्त्र से 5 जुलाई के झारखंड बंद का आह्वान करते हुए शहर के मुख्य मार्ग में पदयात्रा किया एवं दर्जनों उपरोक्त चौक-चौराहों पर नुक्क्ड़ सभा को सम्बोधित किया।
पोस्टल कोड 834001