मस्जिद में मौलवी को जिंदा जलाने की कोशिश

0
4910
Print Friendly, PDF & Email

अलीगढ : जामा मस्जिद में रह रहे इमाम के मुताबिक उन्हें देर रात जिंदा जलाने की कोशिश की गयी| जिस कमरे में  मौलवी सो रहे थे उसमें कुछ अराजक तत्वों ने पेट्रोल डालकर आग लगा दिया| मौलवी ने फोन करके और शोर मचा कर स्थानीय लोगों को इसकी सूचना दी| यह घटना जनपद अलीगढ के थाना टप्पल के कस्बा जट्टारी की है|

अज्ञात लोगों द्वारा किए गए आगजनी की इस घटना में मौलवी की जैकेट, बिस्तर और धार्मिक पुस्तकों के  साथ-साथ पास में खड़ी स्कूटी की सीट जल गई। आग देख कर हड़बड़ाए मौलवी ने मस्जिद से जब बाहर निकलने की कोशिश की लेकिन आगजनी करने वालों ने बाहर से कमरे की कुंडी लगा दी थी| घबराहट और डर से मौलवी ने शोर मचाना शुरू किया| स्थानीय लोगों ने मौलवी की आवाज सुनकर दरवाजा खोला और आग बुझाया| घटना की जानकारी मिलने पर सीओ और एसओ, टप्पल, पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुँच गए|

बताया जाता है कि पुलिस सुबह मौलवी को अपने साथ ले गयी और उनके साथ अभद्रता भी किया गया|  इस घटना के बाद मौलवी भयभीत हैं और उन्होंने आरोप लगाया है कि पुलिस मामले को हल्के में ले रही है| कस्बे के लोगों का कहना है कि कुछ समय पूर्व भी इस मस्जिद में कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा मांस के टुकडे डाल कर के धार्मिक उन्माद फैलाने की कोशिश की गयी थी| जिसके चलते आज मुस्लिम समुदाय के लोगों द्वारा थाना टप्पल का घिराव कर क्षेत्र की फिजा खराब करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की मॉग की गयी है। मौलवी ने भी अज्ञात लोगों के खिलाफ तहरीर दे दी है। अगर पुलिस ने सूझबूझ से काम नहीं लिया तो कभी भी कस्बा धार्मिक उन्माद की आग में झुलस सकता है। ख़बर लिखे जाने तक पुलिस ने जांच अपने हाथ में ले लिया है लेकिन अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हो पायी है|

गौरतलब है कि लव जिहाद के नाम पर राजस्थान के राजसमंद में हुई एक मुसलमान व्यक्ति की निर्मम हत्या की आग अभी बुझी भी नहीं है कि अलीगढ़ से एक दुसरे मुसलमान को ज़िंदा जालाये जाने की कोशिश की ख़बर ने सनसनी फैला दी है। राजसमंद हत्याकांड के आरोपी शंभूलाल ने अफराजूल की हत्या करने के बाद शव को जला दिया था। जिसके बाद उसने हत्या का वीडियो वायरल किया। वीडियो में आरोपी यह कहते हुए नज़र आ रहा है कि अगर भारत में लव जिहाद खत्म नहीं हुआ तो हर जेहादी का यही हाल होगा। सोशल मीडिया पर वायरल हुए हत्या के वीडियो के कारण पुलिस के हाथ-पांच फूले हुए हैं। मुसलामानों, आदिवासियों, दलितों और कम्युनिष्टों पर हो रहे लगातार हमलों के इस दौर में टप्पल थानाक्षेत्र के कस्बा जट्टारी की इस घटना को इसी कड़ी में जोड़कर देखा जा रहा है|

पीड़ित मौलवी का बयान सुनने के लिए नीचे दिए विडियो लिंक पर क्लिक करें :





SHARE
Previous articleराहुल गाँधी ने राजनीति में मर्यादा हीनता अपनाई जीरो टॉलरेंस की नीति
Next articleसिर्फ पुरुष ही क्यों निशाने पर होते हैं, अवैध संबंधों में – सुप्रीम कोर्ट
नीरज चक्रपाणी उत्तर प्रदेश के हाथरस में सक्रीय पत्रकारिता कर रहे हैं। रिपोर्टिंग का लम्बा अनुभव रखने वाले नीरज ने अनेक प्रतिष्ठित मीडिया सस्थानों के साथ काम किया है। नीरज हिंद वॉच मीडिया के लिए हाथरस से नियमित तौर पर स्वतंत्र एवं स्वैच्छिक रूप से रिपोर्टिंग करते रहे हैं। सटीक, निर्भीक और प्रमाणिक जमीनी पत्रकारिता उनकी विशेषता है। हिंद वॉच मीडिया समूह जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रहा है। साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल, वेब चैनल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता और निडरता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाने के लिए हिंद वॉच मीडिया पूरी समर्पण से काम करता है। भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है।
Hi this is test content
loading...