Print Friendly, PDF & Email

नई दिल्ली
राफेल को लेकर इन दिनों भारतीय राजनीति में घमासान मचा हुआ है। वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस मुद्दे पर लगातार नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार को घेर रहे हैं। दूसरी ओर, इस चर्चित विमान से गुरुवार को भारतीय वायुसेना के एक आला अफसर ने उड़ान भरी।

नांबियार ने फ्रांस के इसट्रेस एयर बेस से विमान के कॉकपिट में बैठकर उड़ान भरी। विमान ने करीब एक घंटे तक उड़ान भरी। भारतीय वायुसेना की 6 सदस्यीय टीम इस समय फ्रांस में है और डासॉल्ट मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट का दौरा कर रही है।
भारतीय वायु सेना के उपप्रमुख एयर मार्शल रघुनाथ नंबियार ने दसॉल्ट एविएशन द्वारा भारत के लिए बनाए गए पहले राफेल लड़ाकू विमान फ्रांस के इसट्रेस एयर बेस से विमान के कॉकपिट में बैठकर उड़ान भरी।

विमान ने करीब एक घंटे तक उड़ान भरी। राफेल सौदे से जुड़े समझौते पर जारी विवाद के बीच आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। अगले 67 महीनों में फ्रांस 36 राफेल विमान भारत को देगा जिसकी शुरुआत अगले साल सितंबर से होगी। बाकी विमान पहली डिलीवरी के अगले 30 महीनों में देना है।