Print Friendly, PDF & Email

कोलकाता, पश्चिम बंगाल
हावड़ा के संतरागाछी रेलवे स्टेशन पर एक फुटओवर ब्रिज पर भगदड़ मचने से मंगलवार 2 लोगों की मौत हो गई, जबकि 17 लोग घायल हो गए। घटना उस समय घटी जब एक एक्सप्रेस ट्रेन और दो ईएमयू लोकल ट्रेनें एक ही समय करीब 6:30 बजे स्टेशन पर पहुंचीं और ट्रेनों पर चढऩे के लिए यात्री प्लेटफॉर्म की ओर जाने लगे।

हादसे के बाद रेलवे ने गलती मानते हुए जांच के आदेश दिए। दक्षिण पूर्वी रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी(सीपीआरओ) संजय घोष ने कहा, ‘अचानक से फुटओवर ब्रिज पर भीड़ बढ़ गई। घटना के लिए हमें खेद है। हमने आधिकारिक जांच का आदेश दिया है।’

इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भगदड़ को लेकर रेलवे पर लापरवाही और बेरूखी बरतने का आरोप लगाया। ममता बनर्जी ने कहा कि ऐसी स्थिति को रोकने के लिए और अधिक आंतरिक समन्वय होना चाहिए। मुझे लगता है कि समन्वय में कमी है और रेलवे को इसे देखना चाहिए। उसे दो ट्रेनों के आगमन के बीच कुछ समय अंतराल देना चाहिए ताकि यात्री प्लेटफॉर्म बदल सकें।

ममता बनर्जी ने ट्वीट किया, ‘रेलवे पर एक और दुर्भाग्यपूर्ण घटना। अफसोस की बात है कि अमृतसर समेत त्यौहार के मौसम में भी ऐसी कई त्रासदी हो रही हैं। रेलवे हमारे देश की जीवन रेखा है। रेल यात्रियों की सुरक्षा हर समय की जानी चाहिए।’ उन्होंने कहा, ‘रेलवे देश की जीवन रेखा है। राष्ट्र की जीवन रेखा को डीरेल नहीं किया जाना चाहिए। रेलवे को यात्रियों की उचित देखभाल करनी चाहिए। मैं रेलवे को दोष नहीं दे रही, लेकिन वो अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकते। उन्हें जांच करने दो। हम अपनी जांच करेंगे। अमृतसर में क्या हो रहा है, देश में क्या हो रहा है।’

ममता बनर्जी ने कहा, ‘मैं रेल मंत्री रही हूं, मैं काम करने का तरीका जानती हूं। रेलवे की तरफ से लापरवाही हुई है। क्यों इस तरह की घटनाएं नियमित रूप से हो रही हैं।’ वहीं मुख्य जनसंपर्क अधिकारी (सीपीआरओ) संजय घोष ने कहा, ‘हमने मुआवजे की घोषणा की है। हम घायल लोगों के सभी खर्च वहन करेंगे। मैंने पता किया है कि प्लेटफॉर्म की गलत घोषणा के संबंध में कोई भ्रम नहीं था।

हम पता करने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या गलत हुआ। संतरागाछी एक महत्वपूर्ण रेलवे स्टेशन है और हमने दो और फुटओवर ब्रिज के लिए योजना बनाई है। एक निर्माण के तहत है। योजना 2012 में लागू की गई थी। हम अब सबवे की योजना बना रहे हैं। जगह की बाधा विस्तार कार्य में बाधा डाल रही है। लेकिन अगले साल तक एक फुटओवर ब्रिज तैयार हो जाएगा।’

मुख्यमंत्री ने भगदड़ में मार गए लोगों के परिवारों के लिए 5-5 लाख रुपए और घायल हुए लोगों के लिए 1-1 लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की है। भारतीय रेलवे ने भी मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए, गंभीर रूप से घायलों को 1 लाख रुपए और मामूली रूप से घायलों को 50,000 रुपए देने की घोषणा की है।