Print Friendly, PDF & Email

नई दिल्ली (नेशनल डेस्क)।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के महासचिव एस. सुधाकर रेड्डी ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर बनी फिल्म की 12 अप्रैल को संभावित रिलीज को रोकने की मांग की है। रेड्डी ने बुधवार को मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को पत्र लिखकर कहा है कि लोकसभा चुनाव के मद्देनजर इस फिल्म की रिलीज को चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन मानते हुए इसके रिलीज को रोका जाना चाहिए।

अपने पत्र में एस. सुधाकर रेड्डी ने लिखा है कि ‘‘मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक मोदी पर बनी ‘‘पीएम नरेन्द्र मोदी’’ नामक फिल्म 12 अप्रैल को 23 भारतीय भाषाओं में रिलीज होने वाली है। चुनाव कार्यक्रम के अनुसार लोकसभा का पहले चरण का चुनाव 11 अप्रैल को शुरु होकर 19 मई तक चलेगा। इस फिल्म की रिलीज चुनाव के दौरान ही होगी।’’

एस. सुधाकर रेड्डी ने चुनाव के दौरान इस फिल्म की रिलीज को महज चुनावी रणनीति का हिस्सा बताते हुये कहा कि इससे मतदाताओं का प्रभावित होना तय है। रेड्डी ने इसे चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन बताते हुए आयोग से फिल्म की रिलीज पर 23 मई को चुनाव परिणाम घोषित होने तक रोक लगाने का अनुरोध किया।

गौरतलब है कि इससे पहले भी बॉलीवुड में ऐसी फ़िल्में बनायी गयीं हैं जो अप्रत्यक्ष रूप से प्रधानमंत्री मोदी के एजेंडे का समर्थन करती हुई प्रतीत होती हैं। श्री नारायण सिंह द्वारा निर्देशित अक्षय कुमार की अदाकारी में आई फिल्म टॉयलेट एक प्रेम कथा में मोदी के स्वच्छ भारत अभियान को बढ़ावा देती हुए फिल्म कह सकते हैं। इस फिल्म के संवादों में नरेन्द्र मोदी का नाम भी कई बार सुनने को मिल जाता है। आजकल चुनावी माहौल में अक्षय कुमार को भाजपा की टिकट पर चुनाव लड़वाने की अटकलें भी तेज हो गयीं हैं। इसी तरह शरत कटारिया द्वारा निर्देशित अनुष्का शर्मा और वरुण धवन की अदाकारी में आयी फिल्म सुई धागा में नरेन्द्र मोदी के मेक-इन-इंडिया की झलक देखने को मिल जाती है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने प्रधानमंत्री मोदी पर बनी इस फिल्म का पहला पोस्टर मुंबई में लॉन्च करने के बाद यह निम्नलिखित ट्वीट किया था :