एसपी इनामी नक्सली के घर पहुंच कर आत्मसमर्पण की दी सलाह

Print Friendly, PDF & Email

गढ़वा, झारखंड
जिले के रंका थाना क्षेत्र के कुदरूम गांव का पुलिस अधीक्षक शिवानी तिवारी ने दौरा किया। इस दौरान वह ढेगुरा टोला स्थित दो लाख के इनामी नक्सली पंकज कोरवा के घर गयी। पंकज के माता-पिता से मिली और उन्हें आत्मसमर्पण नीति का फायदा उठाने की सलाह दी।

वहां से लौटने के पश्चात शिवानी ने बताया कि आर्थिक तंगी के कारण पंकज कोरवा 2005 में माओवादी संगठन में चला गया था। इस दौरान वह कई घटनाओं में शामिल रहा। वर्ष 2009 में उसकी गिरफ्तारी हुई। 3 साल तक जेल में रहने के बाद ने उसका जमानत कराया, परन्तु वह घर जाने के बजाए जेल से सीधा माओवादी संगठन में चला गया।

वह तकरीबन 12 वर्षों से माओवादी संगठन में कार्यरत है। इसके बावजूद उसके घर की आर्थिक स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ है। आज भी घर के लोग रोजगार के लिए तरस रहे हैं। पंकज कोरवा इस इलाके का इकलौता माओवादी सदस्य है।
उसे मुख्यधारा में लौटाने एवं सरकार के आत्मसमर्पण नीति तथा पुनर्वास नीति का लाभ दिलाने हेतु प्रयास किया जा रहा है। आत्मसमर्पण में पुलिस का भय आड़े ना आए, इस कारण परिवार के लोगों से मिलकर उसे आत्मसमर्पण के लिए प्रेरित किया गया है। पंकज कोरवा के दो भाई एवं तीन बहन हैं।





loading...