Print Friendly, PDF & Email

tr-4-new_1485400579

डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने एक और चुनावी वादे को पूरा कर दिया। उन्होंने दो ऑर्डर्स पर साइन कर मेक्सिको सीमा पर दीवार बनाने के प्रोजेक्ट को सहमति दे दी। उन्होंने कहा “कोई भी देश बिना बॉर्डर के सही मायने में एक देश हो ही नहीं सकता।” साथ ही, उन्होंने बिना डॉक्युमेंट्स के रह रहे इमिग्रेंट्स की जल्द वापसी की बात भी कही है।

अमेरिकी डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा “सदर्न हिस्से की बॉर्डर पर काफी समस्याएं हैं। सेंट्रल अमेरिका से आने वाले इलीगल इमिग्रेंटस अमेरिका और मेक्सिको, दोनों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि इस फैसले से दोनों देशों की सिक्युरिटी बेहतर हो सकेगी। ये मेक्सिको के लिए तो और बेहतर हो सकेगा।”  ट्रम्प ने ये भी कहा “मेरे दोनों ऑर्डर्स से न केवल हजारों जिंदगियां बचेंगी, बल्कि लाखों जॉब्स और करोड़ों डॉलर्स भी बचेंगे।ये दोनों ऑर्डर्स इमिग्रेशन रिफॉर्म्स का हिस्सा हैं। ये बात मैंने कैम्पेन के दौरान भी कही थी। हम मेक्सिको के साथ मिलकर सुरक्षा और आर्थिक मजबूती के लिए काम करते रहेंगे।” उन्होंने ये भी कहा “दीवार बनने से मेक्सिको को सेंट्रल अमेरिका से होने वाले इलीगल इमिग्रेशन और वॉयलेंट ड्रग्स कार्टेल से भी निजात मिलेगी।”

अमेरिका ने ये भी साफ किया है कि वह 7 मुस्लिम देशों के लोगों को शरण नहीं देगा| डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन कई मुस्लिम बहुल देशों समेत ‘कुछ देशों’ के नागरिकों के अमेरिका में प्रवेश पर अस्थायी रूप से रोक लगाने की योजना बना रहा है| प्रस्ताव में सात मुस्लिम देशों सीरिया, यमन, इराक, ईरान, लीबिया, सोमालिया और सूडान के लोगों को शरण देने पर अस्थायी बैन लगाने का प्रावधान है। शुरू में यह बैन 120 दिनों के लिए होगा। बाद में इसे बढ़ाया जा सकता है। इन देशों के शरणार्थियों का वीजा रद्द करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। एक अमेरिकी इमीग्रेशन लॉयर्स के एसोसिएशन (एआईएलए) ने इस संबंध में एक मसौदा रिपोर्ट प्रसारित की है|

हालांकि व्हाइट हाउस ने मसौदा रिपोर्ट की प्रमाणिकता पर टिप्पणी नहीं की है, लेकिन कई अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि इन देशों में मुख्य रूप से मुस्लिम बहुल देश शामिल हैं|

हाल ही में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनके मंत्रिमंडल के कई सहयोगियों ने इस बात का खंडन किया था कि प्रस्तावित प्रतिबंध धर्म आधारित होगा|अमेरिकन इमीग्रेशन लॉयर्स एसोसिएशन (एआईएलए) के लीक हुए मसौदा रिपोर्ट के अनुसार “अमेरिकी सरकार कुछ देशों के नागरकों को वीजा जारी करने पर रोक लगाएगी|”इसके साथ ही अमेरिकी सरकार शरणार्थियों के प्रवेश पर 120 दिनों के लिए रोक, सीरियाई शरणार्थियों के दस्तावेजों पर अनिश्चित काल के लिए रोक और वीजा साक्षात्कार छूट कार्यक्रम पर रोक लगाएगी|

 मसौदा रिपोर्ट में कहा गया “किसी व्यक्ति का आतंकवादियों के साथ संबंधों का पता लगाने और उन्हें अमेरिका में प्रवेश करने से रोकने में वीजा जारी करने की प्रक्रिया महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है|”