Print Friendly, PDF & Email

akhilesh_1487261496समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बिजली वाले बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि “प्रधानमंत्री तार छू कर देख लें कि उसमें करंट है या नहीं।” अखिलेश यादव ने 27 फ़रवरी को देवरिया में यह बात कही। अखिलेश ने कहा “हम वाराणसी को 24 घंटे बिजली दे रहे हैं, लेकिन मोदी झूठे बयान देकर लोगों को गुमराह कर रहे हैं। प्रधानमंत्री गंगा मैय्या की कसम खाकर कहें कि काशी में बिजली नहीं दी जा रही है।”

गौरतलब है कि फतेहपुर की रैली में मोदी ने कहा था “अगर किसी गांव में कब्रिस्तान बनता है तो शमशान भी बनना चाहिए। रमजान में बिजली आती है तो दिवाली में भी आनी चाहिए। होली पर बिजली मिलती है तो ईद पर भी मिलनी चाहिए।” मोदी ने राहुल गांधी और अखिलेश यादव की रथ यात्रा के दौरान बिजली के तारों के बीच में फंसने की बात पर भी चुटकी थी। उन्होंने कहा था कि “रथ के बिजली के तारों में फंसते ही अखिलेश यादव डरे नहीं क्योंकि वह जानते थे की इन तारों में बिजली है ही नहीं।”

मुख्यमंत्री ने नोटबंदी पर बोलते हुए कहा “प्रधानमंत्री ने नोटबंदी का फैसला लेकर गरीबों और मजदूरों को अपने पैसे के लिए ही लाइन में लगा दिया, कई लोगों की लाइनों में खड़े होने से मौत हो गई।” उन्होंने कहा “पैसा काला नहीं होता बल्कि लेन-देन काला होता है। समाजवादी पार्टी ने लाइन में खड़े लोगों की मौत के बाद उनके परिजनों को दो-दो लाख रुपये की सहायता दी।”

उत्तर प्रदेश में नकल माफिया पर दिए गए प्रधानमंत्री के बयान पर निशाना साधते हुए अखिलेश ने कहा कि “प्रधानमंत्री मोदी तो सूट भी नकल करके पहनते हैं।” वहीं मायावती पर तंज कसते हुए अखिलेश ने कहा “बुआ तो कभी भी भाजपा के साथ रक्षाबंधन मना सकती हैं। आप लोग उनसे सावधान रहें।” उन्होंने कहा “हमें ये पता है कि जिसकी सरकार बनने वाली होती है, आखिरी चरण में सारे वोट उन्हीं को मिल जाते हैं।”