Print Friendly, PDF & Email

रांची, झारखंड
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि गरीब, आदिवासी, अनुसूचित जाति, पिछड़ा, शोषित वर्ग के युवा खुद किसी से कम नहीं हैं। अपने मेहनत, लगन और ईमानदारी से काम करके ही हम बड़ा बन सकते हैं। राज्य सरकार हर कदम पर आपके साथ है। उन्होंने कहा कि झारखंड के युवा उद्यमी है। आगे बढ़ने के लिए जीवन में रिस्क लेना पड़ता है। देश की आजादी के लिए भगवान बिरसा मुंडा, सिदो, कान्हू ने अपना सर्वस्व बलिदान किया है। ऐसे ही वीर सपूतों की मदद से आज हमारा देश आजाद है। हस सब को देश के लिए कुछ करने का अवसर मिला है। इसलिये जीवन में सपना बड़ा देखिए। दुनिया की कोई ताकत आपको सफल होने से नहीं रोक सकती। मुख्यमंत्री होटल बीएनआर चाणक्या रांची में आयोजित ट्राइबल डेवलेपमेंट मीट का उदघाटन करने के बाद लोगों को संबोधित कर रहे थे।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि आदिवासी बहुत सीधे सरल होते हैं और कुछ लोग उनका फायदा उठा रहें हैं। आदिवासियों के नाम पर चल रही राजनीति बंद होनी चाहिए। अब सिर्फ विकास की राजनीति होगी, आदिवासियों के विकास की राजनीति होगी। अब आदिवासी विकास के तरफ बढ़ रहें हैं। आगे बढ़ने के लिए हमें दूरदर्शी नीति बनानी होगी ताकि हम योजनाबद्ध तरीके से काम कर सकें। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा विजन साफ होना चाहिए। हम क्या और क्यों करना चाहते हैं, इसकी समझ होनी चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा तीन बातों पर जोर देते हैं, स्किल, स्केल और स्पीड। हमारी सरकार आदिवासी उद्यमशीलता को बढ़ावा देने का काम कर रही है।

सरकार स्किल डेवलपमेंट के जरिए लोगों को रोजगार उपलब्ध करवा रही है। आप अपने सपनों का स्केल बड़ा रखिए। हमेशा बड़ा सपना देखिए, उसपर फोकस कीजिए। रघुवर दास ने कहा कि राज्य में कुछ लोग केवल नकरात्मक बात करते हैं। नकारात्मक बातें करने से प्रसिद्धि मिल सकती है लेकिन सिद्धि नहीं। सिद्धि पाने ले किए मेहनत करनी होगी, गरीब का भला करना होगा। यह सरकार गरीब, आदिवासियों, महिलाओं के विकास की सरकार है। यह मेरी सरकार नहीं, यह जनता और गरीब की सरकार है। झारखण्ड के लिए विकास के लिए लघु उद्योगों का जाल बिछाने का काम हमारी सरकार कर रही है। हमारा लक्ष्य है कि यहां के लोगों को यहीं रोजगार मिले। पलायनमुक्त झारखण्ड बने।

रघुवर दास ने कहा कि कुछ लोग आदिवासियों को आगे बढ़ने से रोकना चाहते है लेकिन सरकार उनके मंसूबे कामयाब नहीं होने देगी। जल, जंगल, जमीन किसी के लिए नारा होगा, लेकिन यह हमारे लिए अमानत है, हमें इसे बचाना है। हम गरीब के विकास के लिए कार्य करेंगे। मेरा संकल्प है गरीब के जीवन में बदलाव लाना, झारखण्ड से गरीबी मिटाना है। हम, आप मिलकर एक नए झारखण्ड का निर्माण कर रहे हैं। झारखंड को पीछे ले जाने वाले और नुकसान पहुंचाने वालों से युवा पीढ़ी सावधान रहे। राज्य किसी एक का नहीं, अपनी जिम्मेदारी निभाएं ताकि झारखंड देश-दुनिया का सिरमौर बन सके। सरकार आपको सहयोग देना चाहते हैं ताकि आप आगे बढ़ें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने गरीबी की वेदना सही है। गरीब का कष्ट जानता हूं। मैं कॉमन मैन था, हूं और रहूंगा। उन्होंने कहा कि आने वाले 3-4 महीनों में टेक्सटाइल फैक्ट्री लग रही है। झारखण्ड का बांस अब विश्वभर में अपनी छाप छोड़ेगा। आईकिया के जरिए झारखण्ड का बांस अब दुनिया भर में जाएगा। रोजगार के हजारों अवसर पैदा होंगे। झारखण्ड की ऑर्गेनिक सब्जी की यूरोप में बहुत मांग है। हम आने वाले समय में यहां की सब्जी यूरोप भेजेंगे। किसान भी खेती के जरिए लोगों को नौकरी दे सकेंगे। स्कील, स्केल और स्पीड के जरिए हम झारखण्ड से गरीबी को नेस्तनाबूत करेंगे।
कार्यक्रम में पद्मश्री मुकुंद नायक, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव सुनील कुमार बर्णवाल, उद्योग सचिव विनय कुमार चौबे, ट्राइबल इंडियन चेंबर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष खेलाराम मुर्मू, दलित इंडियन चेंबर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के पूर्वी क्षेत्र के अध्यक्ष राजेंद्र जिवासिया समेत अन्य लोग उपस्थित थे।
पोस्टल कोड 834001