Print Friendly, PDF & Email

गुजरात विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान हर चीज आजमाई जा रही है। बयानबाजी से लेकर मंदिरों के दौरे किया जा रहे हैं। कुछ समय पहले जहाँ मोदी ने मंदिर में माथा टेका था अब राहुल गांधी भे उसी राह पर चल रहे हैं। अब तक करीब 18 मंदिरों में दर्शन कर चुके कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी हाल में सोमनाथ पहुंचे। राहुल के यहां पहुंचने के बाद उनका नाम मंदिर के एंट्री रजिस्टर में लिखे जाने को लेकर विवाद हो गया है। गौरतलब है कि सोमनाथ मंदिर में गैर हिंदू दर्शनार्थियों को दर्शन से पहले इस रजिस्टर में अपना नाम दर्ज करना पड़ता है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल बसोमनाथ मंदिर दर्शन के लिए पहुंचे थे। मंदिर परिसर में लगे बोर्ड पर स्पष्ट लिखा है कि सोमनाथ एक हिंदू मंदिर है और गैर हिंदू अनुमति लेने के बाद ही इसमें प्रवेश और दर्शन कर सकते हैं। साथ ही इसके लिए बनाए गए रजिस्टर में गैर हिंदुओं को अपना नाम और विवरण भरना होता है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, राहुल गांधी के मीडिया कोऑर्डिनेटर मनोज त्यागी ने सोमनाथ मंदिर के एंट्री रजिस्टर में राहुल गांधी और अहमद पटेल का नाम दर्ज किया। इस बात पर सवाल उठ रहे हैं कि कांग्रेस उपाध्यक्ष को गैर हिंदू के तौर पर दर्ज क्यों किया गया। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात चुनाव का बिगुल फूंकने के लिए गुजरात पहुंच गए तो कच्छ के आशापूरा मंदिर में दर्शन किए। चुनाव प्रचार के आग़ाज़ से पहले मोदी आशापूरा मंदिर पहुंचे, बच्चों को किया दुलार। हैं। लगता है दोनों सोचते हैं कि मंदिरों में दर्शन कर ही भगवान् कृपा बरसाएंगे और चुनाव जिताएंगे।